26 May 2020, 11:36:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport » Tennis

अंकिता और शरण को अर्जुन पुरस्कार के लिए नॉमिनेट करेगा एआईटीए

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 17 2020 3:36PM | Updated Date: May 17 2020 3:36PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। अखिल भारतीय टेनिस महासंघ एशियाई खेलों के पदक विजेता अंकिता रैना और दिविज शरण को अर्जुन पुरस्कार के लिए नामांकित करेगा जबकि पूर्व डेविस कप कोच नंदन बाल के नाम की सिफारिश ध्यानचंद पुरस्कार के लिए करेगा। अंकिता ने 2018 एशियाई खेलों में महिला वर्ग का कांस्य पदक जीता था, उन्होंने फेड कप में भी शानदार प्रदर्शन दिखाया और भारत के पहली बार विश्व ग्रुप प्ले ऑफ के लिए क्वॉलिफाई करने में अहम भूमिका अदा की थी। 

दिल्ली के खिलाड़ी शरण ने जकार्ता में हमवतन जोड़ीदार रोहन बोपन्ना के साथ पुरुष युगल स्पर्धा का स्वर्ण पदक हासिल किया था। वह अक्टूबर 2019 में भारत के शीर्ष युगल खिलाड़ी बन गए थे, लेकिन बाद में बोपन्ना ने फिर यह स्थान हासिल कर लिया। 34 साल के इस खिलाड़ी ने 2019 सत्र में दो एटीपी खिताब भी जीते थे, जिसमें बोपन्ना के साथ पुणे में टाटा ओपन महाराष्ट्र और इगोर जेलेने के साथ सेंट पीटर्सबर्ग में ट्रॉफी शामिल थी। 

एआईटीए के महासचिव हिरण्मय चटर्जी ने कहा, ' ये खिलाड़ी इस साल के अर्जुन पुरस्कार के लिए योग्य और इसके हकदार हैं। हम इनके नाम की सिफारिश करेंगे।' अंकिता 2018 फेड कप के दौरान अपने बेहतरीन प्रदर्शन से सुर्खियों में आई थीं, जिसमें वह एकल में एक भी मैच नहीं हारी थीं। इसके बाद से वह डब्ल्यूटीए और आईटीएफ सर्किट में भारत की सर्वश्रेष्ठ एकल खिलाड़ी बन गयीं और इस साल मार्च में उन्होंने करियर की सर्वश्रेष्ठ एकल रैंकिंग 160 हासिल की। 

इस साल के फेड कप में अंकिता ने पांच दिन के अंदर आठ मैच खेले जिसमें से दो एकल और अनुभवी स्टार खिलाड़ी सानिया मिर्जा के साथ मिलकर तीन अहम युगल मुकाबले जीते जिससे भारत पहली बार प्ले ऑफ के लिए क्वॉलिफाई करने में सफल रहा। 

रोहन बोपन्ना अंतिम टेनिस खिलाड़ी थे, जिन्होंने 2018 में अर्जुन पुरस्कार जीता था। एआईटीए हालांकि अब भी विचार कर रहा है कि बाल का नाम द्रोणाचार्य पुरस्कार या फिर ध्यानचंद पुरस्कार के लिए भेजा जाए। चटर्जी ने कहा, 'हम विचार कर रहे हैं कि नंदन के लिए कौन सा वर्ग सही होगा।'

एआईटीए में विश्वस्त सूत्रों ने हालांकि पीटीआई-भाषा को बताया कि बाल का आवेदन ध्यानचंद पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा। बाल (60 वर्ष) 1980 से 1983 तक डेविस कप में खेले थे और वह कई वर्षों तक भारत के डेविस कप कोच रहे। अभी तक केवल तीन टेनिस खिलाड़ियों को ध्यानचंद पुरस्कार से नवाजा गया है जिसमें जीशान अली (2014), एस पी मिश्रा (2015) और नितिन कीर्तने (2019) शामिल हैं। किसी भी टेनिस कोच को द्रोणाचार्य पुरस्कार नहीं मिला है।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »