11 Dec 2019, 12:38:44 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

राफेल मामले में सोनिया गांधी देश से माफी मांगे -चतुर्वेदी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Nov 15 2019 12:06AM | Updated Date: Nov 15 2019 12:06AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

अलवर। राजस्थान भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी ने राफेल  के मामले में  केंद्र सरकार को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा क्लीन चिट देने पर  कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी को देश से माफी मांगनी चाहिए। चतुर्वेदी आज यहां भिवाड़ी में नगर निकाय चुनाव के प्रचार के मद्देनजर आए हुये थे। उन्होंने  पत्रकार वार्ता में कहा कि कांग्रेस ने राफेल के मामले पर  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर झूठे आरोप लगाए और कांग्रेस झूठ के साथ चलती  है और मनगढ़ंत बातें करती है। जिसके चलते भारत की छवि देश में ही नहीं अपितु दुनिया  में खराब हुयी। उन्होंने न्यायालय का हवाला देते हुए  कहा कि राफेल मामले पर अब अदालत ने क्लीन चिट दे दी है।
 
इस मामले  में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हुई है।यह फैसला  कांग्रेस के गाल पर तमाचा है और सोनिया  जी को देश से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के राजकुमार राहुल गांधी झूठ के सहारे ही  अपनी राजनीति कर रहे हैं और देश को बदनाम करने की साजिश करते हैं । नगर  निकाय चुनाव के सवाल पर उन्होंने कहा कि भाजपा अधिकांश नगर  निकाय में अपना बोर्ड बनाएगी जिस तरीके से नगर निकाय चुनाव को लेकर रिपोर्ट  आ रही हैं उनमें पार्टी के ज्यादातर पार्षद ही चुनाव जीतेंगे  और अधिकांश नगर निकायों में भाजपा सभापति बनेगा। चतर्वेदी ने कहा कि प्रदेश  नेतृत्व जिसे सभापति के लिए नियुक्त करेगा वह सभापति बनेगा और यह कार्य  पूरी एक टीम करती है।
 
उन्होंने कहा कि नगर निकाय चुनाव में भारतीय जनता  पार्टी ने धारा 370 ,राफेल और राम मंदिर का कोई मुद्दा नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि नगर निकाय चुनाव में सीवरेज लाइन रोड लाइट एलईडी  लाइट पार्क की सफाई सड़क निर्माण सहित अनेक आमजन से जुड़ी हुई समस्याओं को  मुद्दा बनाती है। टिकट वितरण में अनियमितता के सवाल पर उन्होंने कहा कि  बीजेपी का आकलन जो होता है और जीत की संभावना होती है उसी कार्यकर्ता को  टिकट दिया जाता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने नगर निकाय चुनाव का जो  कार्यक्रम तय किया है वह पूरी तरीके से संदिग्ध है। पहली बार 13 - 13 दिन  तक नगर निकाय चुनाव के सभापति चुनने में समय लगेगा। इससे कांग्रेस की मंशा  पर सवाल उठता है खरीद-फरोख्त की जाएगी। नहीं तो चुनाव में मतगणना के  2 या  3 दिन में ही सभापति का निर्वाचन हो जाता है। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »