25 Aug 2019, 10:03:30 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

आजमगढ़ सहासी कांस्टेबल ने दो परिवारों के चिरागों को बुझने से बचाया

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 22 2019 1:54AM | Updated Date: Jul 22 2019 1:54AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

आज़मगढ़। उत्तर प्रदेश पुलिस के डायल 100 पर तैनात चालक अर्जुन यादव ने रविवार को साहस का परिचय देते हुए दो परिवारों के इकलौते चिलाग को बुझने से बचा लिया। कांस्टेबल अर्जुन यादव इस साहसी एवं सराहनीय कार्य की हर जगह प्रशंसा की जा रही है काश हर जगह यूपी पुलिस इसी सोच के अनुरूप काम करती ऐसे पुलिसकर्मी को प्रदेश सरकार को पुरस्कृत करना चाहिए। पुलिस के अनुसार तहबरपुर क्षेत्र के बैरमपुर मंझारी प्राइमरी से डायल 100 की गाडी  गुजर रही थी।
 
अर्जुन यादव की नजर तलाब में डूब रहे दो बच्चो पर पड़ी। उसने अपनी जान की परवाह किए बगैर तालाब में कूद गया और दोनो बच्चों डूबने से बचा लिया। उन्होंने बताया कि कमांडर विनेश कुमार ,सब कमांडर जैसवार रंिवदर,  चालक अर्जुन यादव रविवार को  लगभग 11:00 बजे दिन में अपने निर्धारित बिंदु बैरन पूर्व प्राथमिक विद्यालय के पास खड़े थे। प्राथमिक विद्यालय से 10 से 15 मीटर की दूरी पर कुछ बच्चे क्रिकेट खेल रहे थे। पास में ही एक तालाब पानी से भरा  था। बच्चों की   गेंद तालाब में चली गई। बच्चे गेंद निकालने के लिए तालाब के पास गए कि तभी  शेषनाथ रायब का बेटा 15 वर्षीय दिव्यांश राय   गेंद निकालने का प्रयास कर रहा था पानी में गिर गया और डूबने लगा। उसे डूबता देख  बचाने के लिए उसका साथी सुनील राय का 15 वर्षीय बेटा उज्जवल राय  तालाब में कूद गया।
 
दोनों किशोर तालाब में डूबने लगे, तभी रास्ते से एक साइकिल सवार व्यक्ति गुजर रहा था तो उसका ध्यान डूबते हुए बच्चों की तरफ गया तो वह व्यक्ति जोर जोर से चिल्लाने लगा। पुलिस के अनुसार उस व्यक्ति की आवाज सुनकर पीआरवी 1054 के कर्मचारी भाग कर मौके पर गए तो देखा कि दोनों बच्चे  तालाब में डूब रहे हैं। पीआरवी कर्मी अर्जुन यादव तत्काल साहस का परिचय देते हुए तालाब में कूद और दोनों बच्चों को बेहोशी की हालत में बाहर निकाला लाया। बच्चों को बाहर निकालकर जमीन पर उल्टा लिटा कर उनके पेट से पानी बाहर निकाला जिससे उन्हें होश आ गया। दोनों बच्चों के डूबने की खबर  बैरनपुर गांव  में फैल गई। ग्रामीण और बच्चों के परिजनों ने पीआरवी कर्मियों की भूरि भूरि प्रशंसा की। इससे आम जनमानस में पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »