24 Jan 2022, 09:58:54 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
zara hatke

नार्वे के इस शहर में 70 सालों से नहीं मरा कोई व्यक्ति, वज‍ह उडा देगी होश

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Nov 11 2021 2:28PM | Updated Date: Nov 11 2021 2:28PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नार्वे। दुनियाभर में अपनी खूबसूरती और पर्यटन के लिए मशहूर नार्वे में इस जगह का नाम लॉन्ग इयरबेन है। यहां की खास बात यह है कि इस शहर में कोई मर नहीं सकता। हम आपको बता दें कि नार्वे को मिडनाइट सन के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस यहां पर मई से लेकर जुलाई के अंत तक सूर्य अस्त नहीं होता है। जिसकी वजह से यहां 76 दिनों तक लगातार दिन ही रहता है और रात नहीं होती। स्वालबार्ड की बात करें तो यहां सूरज 10 अप्रैल से 23 अगस्त तक नहीं ढलता। इसके साथ ही लॉन्ग इयरबेन में प्रशासन ने एक ऐसा कानून बनाया हुआ है, जिसके तहत यहां लोगों के मरने पर बैन लगा हुआ है। लॉन्ग इयरबेन नार्वे के नॉर्थ पोल में स्थित है। यहां सालों साल भीषण ठंड पड़ती है। 
 
सर्दी के कारण यहां इंसान की मौत के बाद दफनाए जाने वाले शव सड़ नहीं पाते। यही कारण है कि प्रशासन ने यहां इंसानों के मरने पर बैन लगा दिया है। इससे भी हैरानी वाली बात यह है कि इस शहर में पिछले 70 सालों से किसी की मौत नहीं हुई है। ईसाई धर्म प्रधान इस शहर में 1917 में अंतिम मौत हुई थी। यह शख्स इनफ्लुएंजा से पीड़ित था। उसके मरने के बाद उसका शव लॉन्ग इयरबेन में दफनाया गया। लेकिन आज तक भी उसके शव में इनफ्लुएंजा के वायरस हैं। यही वजह है कि यहां के प्रशासन ने शहर में किसी भी शख्स के मरने पर रोक लगा दी। ताकि इस महामारी को फैलने से रोका जा सके। 2000 की आबादी वाले इस शह में अगर कोई बीमार पड़ता है तो तो उसे हवाई मार्ग से किसी दूसरे स्थान पर पहुंचा दिया जाता है। इसके साथ ही उसके मौत के बाद वहीं पर उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया जाता है।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »