30 Jul 2021, 23:44:49 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

कोविड वैक्सीनेशन के सभी मापदंडों में राजस्थान अव्वल

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 24 2021 10:18PM | Updated Date: Jun 24 2021 10:18PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

जयपुर। कोविड-19 वैक्सीनेशन के तहत निर्धारित सभी मापदंडों में राजस्थान बहतर प्रदर्शन कर देश के अग्रणी राज्यों में है। वैक्सीन का वेस्टेज भी न्यूनतम है। प्रदेश में प्रतिदिन 15 लाख व्यक्तियों को वैक्सीन लगाने की क्षमता विकसित कर ली गई है।  केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गोबा की अध्यक्षता में आज आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में प्रदेश के मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने यह जानकारी दी। वीडियो कॉन्फ्रेंस में प्रदेश के प्रमुख शासन सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अखिल अरोड़ा, शासन सचिव, चिकित्सा शिक्षा वैभव गालरिया तथा शासन सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सिद्धार्थ महाजन ने भाग लिया। आर्य ने प्रदेश में कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुये की जा रही तैयारियों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होने बताया कि सम्भावित तीसरी लहर के मध्यनजर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के आधारभूत ढॉचे को सुदृढ किया जा रहा है। 
 
उन्होने बताया कि प्रदेश में प्रतिदिन 15 लाख व्यक्तियों को वैक्सीन लगाने की क्षमता उपलब्ध हैं लेकिन वर्तमान में वैक्सीन की आपूर्ति के आधार पर प्रतिदिन लगभग सवा तीन लाख व्यक्तियों को ही वैक्सीन डोज लगाई जा रही हैं। वैक्सीन भण्डारण की भी पर्याप्त व्यवस्था उपलब्ध है। नियमित आपूर्ति के अभाव में वैक्सीनेशन चैन टूटने की आशंका रहती है। उन्होंने बताया कि वैक्सीन की नियमित आपूर्ति सुनिश्चित करने की आवश्यकता प्रतिपादित की। आर्य ने बताया कि वर्तमान प्रावधानों के अनुसार केंद्रीय आपदा प्रबंधन कोष के तहत उपलब्ध राशि में से कोविड-19 के लिये निर्धारित 50 प्रतिशत राशि का ही व्यय किया जा सकता हैं। मुख्य सचिव ने कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका को ध्यान में रखते हुये केंद्रीय आपदा प्रबंधन कोष में कोविड-19 के लिये निर्धारित 50 प्रतिशत राशि की सीमा को बढ़ाकर 80 प्रतिशत करने की मांग की। उन्होने  बताया कि गत वर्ष इस कोष में 1900 करोड रूपये की राशि उपलब्ध करवाई गई थी। जबकि इस वर्ष 1500 करोड़ रूपये की राशि ही उपलब्ध करवाई गई है। उन्होने इस वर्ष की राशि को भी गत वर्ष के बराबर करने की मांग की।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »