19 May 2021, 02:14:28 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

केजरीवाल ने कोरोना के बढ़ते मामलों और ऑक्सीजन की कमी पर चिंता जताई

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 18 2021 12:27AM | Updated Date: Apr 18 2021 12:31AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में तेजी से बढ़ते कोरोना मामलों को लेकर गंभीर चिंता जताते हुए कहा कि वह दिन-रात मेहनत कर ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य सुविधाओं का इंतजाम कर रहे हैं, ताकि कोरोना से एक कदम आगे रहें। केजरीवाल ने आज यहाँ पत्रकारों से कहा कि दिल्ली में अगले दो से चार दिनों के अंदर करीब छह हजार बेड और बढ़ा दिए जाएंगे। कोरोना के केस तेजी से बढ़ने की वजह से दिल्ली में ऑक्सीजन, रेमडिसविर की कमी होती जा रही है।

अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि रेमडिसविर की जमाखोरी और ब्लैक मार्केटिंग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। क्षमता से अधिक सैंपल उठाने और 24 घंटे में रिपोर्ट नहीं देने वाले लैब्स के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। साथ ही, कोरोना एप पर गलत जानकारी देने और उपलब्ध होने के बावजूद बिस्तर नहीं देने वाले अस्पतालों के खिलाफ भी अब कड़ी कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि अगर कोरोना की स्थिति और गंभीर होती है, तो दिल्ली वालों की सुरक्षा और जिंदगी बचाने के लिए हम और भी कड़े कदम उठाएंगे।

मुख्यमंत्री ने तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण की रोकथाम और कोराना मरीजों बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया के लिए अधिक से अधिक बेड बढ़ाने को लेकर आज कई दौर की बैठकें कीं। मुख्यमंत्री ने दोपहर में सचिवालय में कोरोना की समीक्षा बैठक की और अधिकारियों से मौजूदा हालत की जानकारी ली। इसके उपरांत मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों से बात की और जरूरी दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि देश के बाकी हिस्सों की तरह ही दिल्ली में भी कोरोना बहुत तेजी से फैल रहा है।

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में लगभग 24 हजार नए केस आएं हैं। उसके पिछले 24 घंटे में करीब 19,500 केस आए थे। एक ही दिन के अंतर में कोरोना के केस 19,500 से बढ़कर के 24 हजार हो गए हैं। दिल्ली में सकारात्मकता दर 24 फीसद से ज्यादा हो गई है। इस समय स्थिति काफी गंभीर और चिंताजनक है। अब दिल्ली के अंदर आॅक्सीजन और रेमडिसविर की कमी होने लगी है। आज मैंने सभी अधिकारियों के साथ कोरोना को लेकर काफी लंबी बैठक की। चूंकि केस बहुत ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं। इस वजह से इन सारी चीजों की कमी हो रही हैं।

कुछ दिन पहले हमारा आंकलन था और हमें लगता था कि यह सारी चीजें उचित मात्रा में मौजूद हैं, लेकिन आज ऑक्सीजन, रेमडिसविर की कमी नजर आई। किसी भी हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर की एक सीमाएं हैं। दिल्ली के अंदर भी एक सीमित बेड और सीमित आईसीयू के बेड हैं। जिस तेजी के साथ कोरोना बढ़ रहा है, तो ऑक्सीजन और आईसीयू के बेड बहुत तेजी के साथ भरते जा रहे हैं, लेकिन ‘आप’की सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि बेड को और ज्यादा से ज्यादा बढ़ाया जाए।

केजरीवाल ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में हमने कई कदम उठाए, जिसकी वजह से बेड को काफी ज्यादा बढ़ाया गया और अभी तक दिल्ली में बेड की कमी नहीं होने दी गई। अभी भी आने वाले कुछ दिनों के अंदर हमने बेड को बढ़ाने के लिए कई कदम उठा रहे हैं और मैं उम्मीद करता हूं कि अगले दो-चार दिनों के अंदर ही हम बड़े स्तर पर बेड बढ़ा पाएंगे। हम कोशिश कर रहे हैं कि अगर किसी मरीज को बेड चाहिए या किसी गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन चाहिए, तो उसे ऑक्सीजन की दिक्कत नहीं होनी चाहिए। इसमें सबसे ज्यादा जरूरी हो जाता है कि मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत होती है। हम जितने ज्यादा से ज्यादा बेड बना रहे हैं, हम कोशिश कर रहे हैं कि उनको ऑक्सीजन बेड बनाया जाए, ताकि एक स्तर के गंभीर मरीजों का उस पर इलाज किया जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यमुना स्पोर्ट्स कांप्लेक्स और कॉमनवेल्थ गेम में लगभग 1300 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम किया जा रहा है। राधा स्वामी सत्संग ब्यास में शुरू में अभी हम 2500 बेड का इंतजाम कर रहे हैं और इसके तुरंत बाद 2500 और बेड का इंतजाम करेंगे। अभी कुछ दिन पहले मैंने बताया था कि किस तरह से होटल और बैंक्विट हॉल को हॉस्पिटल के साथ अटैच किया जा रहा है।

होटल और बैंक्विट हॉल को हॉस्पिटल के साथ अटैच करके हम 2100 ऑक्सीजन बेड बनाने में सफल हुए हैं, जो अगले एक-दो दिन में दिल्ली कोरोना एप पर भी आ जाएगा। यह सभी बैंक्विट हॉल और होटल में बढ़ाए गए बेड अस्पताल की निगरानी में होंगे। एक तरफ से यह सभी अस्पताल का हिस्सा होंगे। इस तरह से मैं उम्मीद करता हूं कि अगले दो से चार दिनों के अंदर इस पूरे सिस्टम के अंदर 6 हजार बेड और जोड़ पाने में सक्षम हो पाएंगे।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »