14 May 2021, 03:19:34 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

प्रदेश में प्रारंभ हुए 94 कोविड केयर सेंटर-शिवराज

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 15 2021 4:48PM | Updated Date: Apr 15 2021 4:48PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति और ऑक्सीजन व्यवस्था के लिए युद्ध स्तर पर कार्य जारी रहने के साथ प्रदेश के जिलों में 94 कोविड केयर सेंटर का संचालन शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने आज अपने निवास से प्रदेश के सभी कलेक्टरों, संभागायुक्तों, पुलिस अधीक्षक और पुलिस महानिरीक्षकों से वर्चुअल चर्चा कर कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हो रहे प्रयासों की जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि प्रत्येक जिले को 2 करोड़ रूपये व्यवस्था के लिए उपलब्ध कराये गये हैं।
 
इसके साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष से प्रत्येक जिले को एक-एक करोड़ रूपये अलग से जारी किये गये हैं। इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि इंदौर एयरपोर्ट पहुँचे 200 बॉक्स में कुल 9 हजार 264 रेमडेसिविर इंजेक्शन आए हैं। इनमें से स्टेट प्लेन के माध्यम से 42 बॉक्स भोपाल, 7 रतलाम और 4 खंडवा पहुँचाये गए। इसी तरह स्टेट प्लेन से 19 बॉक्स ग्वालियर, 18 रीवा, 39 जबलपुर और 14 सागर पहुँचाये जा रहे हैं। इंदौर के लिए 57 रेमडेसिविर इंजेक्शन के बॉक्स रखे गए हैं। चौहान ने कहा है कि सभी कलेक्टर्स कोरोना संक्रमण का पूरी ऊर्जा के साथ मुकाबला करें। नागरिकों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाएँ। सावधानियों का पूरी तरह पालन हो।
 
ऑक्सीजन, औषधियों और बिस्तरों की व्यवस्था सहित सभी आवश्यक कार्यों को यथा समय पूर्ण किया जाए। कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन हो। जहाँ कोरोना कर्फ्यू नहीं लगा है, वहाँ आवश्यक हो तो कोरोना कर्फ्यू लगाया जाए। उन्होंने बताया कि कुछ जिलों में नवाचार भी हुए हैं, जैसे भोपाल में ऑक्सीजन के लिए टैंकर की व्यवस्था की गई। बड़वानी में जाँच की दरें नियंत्रित कर जनता को राहत दी गई। भोपाल में एम्स और रेडक्रॉस हॉस्पिटल में भी बिस्तर क्षमता बढ़ाई जा रही है।
 
जबलपुर के सुख सागर अस्पताल और अन्य नगरों में निजी अस्पतालों का सहयोग भी ले रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कल उनकी कोरोना वॉलेंटियर्स से भी चर्चा हुई। उनमें अच्छा जज्बा है। स्वैच्छिक संगठन कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने में सहयोग करें। प्रशासनिक अधिकारी और कर्मचारी जनता को जागरूक करें और उनमें विश्वास स्थापित करें। अपनी टीम सहित स्वयं भी स्वस्थ रहें। उन्होंने कहा कि पूरे सेवाकाल में ऐसी चुनौतियाँ कम ही आया करती हैं। इस आपदा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करें। सभी मिलकर टीम के रूप में कार्य करें। सभी के मिले-जुले प्रयासों से कोरोना पराजित होगा।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »