12 Jun 2021, 17:15:16 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Madhya Pradesh

शिवराज ने कोरोना की समीक्षा की, संक्रमण दर घटी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 10 2021 12:15AM | Updated Date: May 10 2021 12:15AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहां मंत्रालय में केन्द्रीय इस्पात, पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान की मौजूदगी में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से कोरोना नियंत्रण कोर ग्रुप के सभी जिलों के प्रभारी मंत्री और अधिकारियों के साथ कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार कम हो रहा है। नए पॉजिटिव मरीजों की संख्या 11 हजार 51 है। पॉजिटिविटी रेट 16.9 प्रतिशत है।

मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के माध्यम से हर गरीब एवं मध्यम वर्गीय व्यक्ति को हर जिले में नि:शुल्क उपचार की सुविधा दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए गाँव-गाँव, शहर-शहर में किल कोरोना अभियान चलाया जा रहा है। इसके अंतर्गत गाँवों में घर-घर सर्वे कर मरीजों की पहचान कर तुरंत उपचार चालू किया जा रहा है। शहरों में कोविड सहायता केन्द्रों के माध्यम से स्वास्थ्य जाँच, नि:शुल्क मेडिकल किट वितरण किया जा रहा है। हम शीघ्र ही कोरोना को पूरी तरह नियंत्रित कर लेंगे।

केन्द्रीय मंत्री प्रधान ने मध्यप्रदेश में कोरोना नियंत्रण एवं व्यवस्थाओं की सराहना की। उन्होंने कहा कि टैस्टिंग अधिक से अधिक होनी चाहिए। जो भी टैस्ट कराने आये, सबके टैस्ट तत्काल किए जायें। मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर (संभावित) की पूरी तैयारी रखें। इस संबंध में इंडियन कॉउन्सिल ऑफ मेडिकल रिसर्च तथा राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों से विचार-विमर्श कर तैयारियाँ की जायें। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि इसके लिए विशेषज्ञों की एक समिति का गठन कर लिया गया है। चौहान ने निर्देश दिए कि होम आइसोलेशन की व्यवस्था बेहतर होनी चाहिए।

यहाँ समय पर दवाएँ तथा निरंतर चिकित्सकीय सलाह मिलती रहे। आवश्यकतानुसार मरीजों को अस्पतालों में शिफ्ट किया जाए। बताया गया कि होम आइसोलेशन में रह रहे एक प्रतिशत मरीजों को अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। जिलेवार समीक्षा के दौरान सीहोर, कटनी एवं रतलाम जिलों को विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश दिए गए। आई.सी.यू. बेड्स की संख्या बढ़ाई जाए, किल कोरोना अभियान सघन रूप से चलाया जाए तथा संक्रमण की चेन सख्ती के साथ तोड़ी जाए।

चौहान ने निर्देश दिए कि जिन जिलों में संक्रमण कम है, वहाँ कोरोना कर्फ्यू का सख्ती से पालन करें तथा किल कोरोना अभियान के माध्यम से संक्रमण की चेन तोड़कर जिलों को कोरोना मुक्त किया जाए। प्रदेश में छिंदवाड़ा, भिंड, बुरहानपुर, खंडवा तथा अशोकनगर जिलों में कोरोना के सबसे कम प्रकरण हैं। जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि अब प्रदेश के 11 जिलों में ही कोरोना के 200 से अधिक नए प्रकरण हैं। इंदौर में 1679, भोपाल में 1556, जबलपुर में 946, ग्वालियर में 861, रतलाम में 398, सीधी में 388, रीवा में 297, उज्जैन में 286, शिवपुरी में 244, सीहोर में 217 तथा सतना में 208 कोरोना के नए प्रकरण आए हैं।

प्रदेश में मुख्यमंत्री कोविड सहायता योजना के अंतर्गत 19 हजार 710 कोविड मरीजों को नि:शुल्क उपचार उपलब्ध कराया जा रहा है। इनमें से 15 हजार 579 कोविड मरीजों को शासकीय अस्पतालों में 3,042 कोविड मरीजों को अनुबंधित अस्पतालों में तथा 1,079 मरीजों को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत संबद्ध अस्पतालों में नि:शुल्क इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत आज की स्थिति में उपचाररत मरीजों पर एक करोड़ 13 लाख 69 हजार 993 रूपए शासन द्वारा व्यय किया जा रहा है। प्रदेश में निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना मरीजों से अधिक शुल्क वसूले जाने पर 87 अस्पतालों के विरूद्ध कार्यवाही की गई और उनसे 24 लाख 54 हजार रूपए की राशि मरीजों को वापस दिलाई गई। साथ ही 32 व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। रेमडेसिविर आदि की कालाबाजारी पर भी निरंतर कड़ी कार्रवाई की जा रही है। 

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »