29 Sep 2021, 00:19:54 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Others

जम्मू-कश्मीर में पुलिसकर्मियों और एसपीओ के परिजनों की सहायता के लिए 1.60 करोड़ रुपये मंजूर

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 26 2021 9:13PM | Updated Date: Jul 26 2021 9:17PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शहीद और मृत पुलिस कर्मियों (पीपी) और विशेष पुलिस अधिकारियों (एसपीओ) के परिजनों की सहायता के लिए 1.60 करोड़ रुपये की विशेष कल्याण और अनुग्रह राशि मंजूर की गयी है। पुलिस के एक प्रवक्ता ने सोमवार को बताया कि पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने शहीद और मृत पुलिस कर्मियों के परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करने का अपना प्रयास जारी रखते हुए शहीदों, मृत पुलिस कर्मियों और एसपीओ के आश्रितों और कानूनी वारिसों के लिए 80 लाख रुपये की विशेष कल्याण राहत राशि और 55 लाख रुपये से अधिक की सहायता राशि को मंजूरी दी है। 
 
प्रवक्ता ने बताया कि डीजीपी ने श्रीनगर के भगत चौक पर एक आतंकवादी हमले में शहीद हुए कांस्टेबल सुहैल मुश्ताक लोहार के परिजनों के लिए 38 लाख रुपये की सहयता राशि मंजूर की है। जंतराग ख्रीव में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए एसपीओ शाबाज अहमद के आश्रितों और कानूनी वारिसों के लिए 17.50 लाख रुपये की सहायता राशि मंजूर की गयी है।
 
उन्होंने बताया कि सेवा के दौरान स्वास्थ्य समस्याओं के कारण जान गंवाने वाले एएसआई कियाम-उद-दीन खटाना, एचसी लाल हुसैन, मुजफ्फर अहमद सेलेक्शन ग्रेड कांस्टेबल, सुदेश कुमारी और संजीव कुमार के आश्रितों और कानूनी वारिसों के पक्ष में 20-20 लाख रुपये की विशेष कल्याण राहत राशि मंजूर की गयी है। एसपीओ मान सिंह के परिजनों के लिए भी पांच लाख रुपये स्वीकृत किए गए हैं, जिनकी विभाग में सेवा के दौरान बीमारी के कारण मृत्यु हो गयी थी। पुलिस मुख्यालय इस राशि (विशेष कल्याण राहत) में से एक-एक लाख रुपये पहले ही परिवारों को अंतिम संस्कार करने के लिए उनकी संबंधित इकाइयों / जिलों के माध्यम से तत्काल राहत के रूप में भुगतान कर चुका है। आर्थिक सहायता अंशदायी पुलिस कल्याण कोष से दी गयी है।
 
गौरतलब है कि पुलिस मुख्यालय अपने कर्मियों और उनके परिवारों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चला रहा है। पुलिसकर्मियों और एसपीओ के बच्चों के लिए भी कई योजनाएं हैं। इसके अलावा शहीदों के परिजनों, उनके बच्चों और सेवानिवृत्त पुलिस कर्मियों और उनके जीवनसाथी के लिए भी योजनाएं चलायी जा रही हैं।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »