18 Apr 2021, 14:58:47 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » National

नानाजी के विचारों पर आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को मूर्ति रुप देने किया जा रहा प्रयास : गडकरी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Feb 27 2021 6:28PM | Updated Date: Feb 27 2021 6:29PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

सतना। केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम मंत्री नितिन गडकरी ने आज कहा कि भारत रत्न नानाजी देशमुख और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों पर आत्मनिर्भर भारत की जो संकल्पना है, उसे एक मिशन के रूप में मूर्ति रुप देने का प्रयास किया जा रहा है।

गडकरी ने वर्चुअली रूप से मध्यप्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट में स्फूर्ति योजना के शुभारंभ अवसर पर यह बातें कहीं। उन्होंने कहा कि इसी के अंतर्गत खादी ग्रामोद्योग आयोग के माध्यम से इस स्फूर्ति परियोजना के तहत ग्रामीण भारत में बेरोजगारी को दूर करने के लिए 5 हजार क्लस्टर के माध्यम से 25 लाख लोगों को रोजगार से जोड़ने की पहल की जा रही है। क्योंकि गांव के लोग खेती और छोटे-छोटे पारंपरिक कुटीर उद्योगों पर निर्भर रहते हैं। इसके लिए सरकार की पारंपरिक उद्योगों को पुनर्जीवित और विकसित करने के लिए स्फूर्ति योजना कारगर साबित होगी।

गडकरी ने वर्चुअली संबोधन में कहा कि दीनदयाल शोध संस्थान के द्वारा स्फूर्ति परियोजना के अंतर्गत विशेष रूप से एक हर्बल क्लस्टर का शुभारंभ हो रहा है। इस क्लस्टर के माध्यम से 500 स्थानीय ग्राम वासियों को रोजगार मिल सकेगा। अभी तक देशभर के विभिन्न हिस्सों में 50 क्लस्टर के माध्यम से 44 हजार आर्टिजन को काम मिला है। नानाजी, पंडित दीनदयाल और महात्मा गांधी का ग्राम विकास का जो सपना है उसे पूरा करने के लिए देश के प्रत्येक गांव में 2 उद्योगों की स्थापना करना होगा।

उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भरता के क्षेत्र में हमारे यहां की बनी कई चीजें आज विदेश जा रही हैं। आप जैसे लोग जो भी उत्पादन करें उसको विपणन के लिए उचित प्लेटफार्म मिले उसके लिए सरकार एक पोर्टल तैयार कर रही है। नाना जी के सपनों को पूरा करने के लिए हर गांव में गोबर से ऑयल पेंट बनाने का एक कारखाना शुरु करना होगा। ताकि पशुपालकों को गोबर का मूल्य मिल सके और रोजगार भी सृजित हो सके। इसके लिए दीनदयाल शोध संस्थान को भी 100 क्लस्टर तैयार करने का बीड़ा उठाना होगा।

भारतरत्न नानाजी देशमुख की 11 वीं पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में चित्रकूट में दीनदयाल परिसर में आयोजित सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय की स्फूर्ति योजना अंतर्गत मल्टी हर्बल प्रोडक्ट एवं हेल्थ केयर क्लस्टर के शुभारंभ अवसर एवं नानाजी को श्रद्धांजलि कार्यक्रम में केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष गिरीश गौतम, मध्यप्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव, संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री कमल पटेल सहित मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के मंत्री, सांसद और विधायक उपस्थित रहे।

कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के कर्वी एवं सतना जिले के प्रगतिशील कृषकों को कृषि विज्ञान केंद्रों के माध्यम से नानाजी देशमुख उत्कृष्ट कृषक सम्मान से नवाजा गया। इसमें दोनों जिलों के ऐसे उन्नतशील कृषक जिन्होंने खेती को लाभ का धंधा बनाने, परंपरागत पोषकीय अनाज उत्पादन, मुर्गी पालन, मत्स्य पालन, पशु पालन, परंपरागत किस्मों का संरक्षण, कृषि ज्ञान दूत, जलवायु अनुकूल कृषि आदि क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य किया है, उन कृषकों को यह सम्मान मंचासीन मंत्रियों द्वारा दिया गया।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »