15 Jul 2020, 14:28:00 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news

टिड्डी दल के खतरे से निपटने को झांसी प्रशासन ने की तैयारी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 25 2020 8:04PM | Updated Date: May 25 2020 8:07PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

झांसी। उत्तर प्रदेश के झांसी प्रशासन ने जनपद में टिड्डी दल के खतरे को देखते हुए क्षेत्र में निगरानी समितियों को गठन कर दिया है और इनकी जानकारी मिलते ही कंट्रोल को सूचना देने के आदेश जारी कर दिये गये हैं। जिलाधिकारी  आन्द्रा वामसी ने सोमवार को कैंप स्थित सभागार में जनपद में टिड्डी दल के विचरण और उनसे निपटने हेतु रणनीति तैयार करते हुए  कहा कि  ऐसे स्थल जहां से पेयजल आपूर्ति की जाती है वहां  तीव्र ध्वनि करते हुए टिड्डी दल को नुकसान करने से बचाया जाए। इनके मूवमेंट पर सतत दृष्टि बनाए रखें और टिड्डी दल जहां विश्राम करता है। उसकी जानकारी तत्काल उपलब्ध कराएं ताकि कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कर मारा जा सके। जनपद में यदि टिड्डी दल द्वारा 30 प्रतिशत से अधिक फसल नुकसान होता है तो तत्काल टीआर 27 से किसानों को राहत राशि उपलब्ध कराई जाएगी।  इस आपदा में सभी अधिकारी एवं कर्मचारी सतर्क रहें ताकि टिड्डी दल से निपटा जा सके। 
 
जिलाधिकारी ने पहुंज बांध, सुकवां दुकवां बांध, पारीछा बांध, बड़वार झील, गढ़मऊ झील, बरूआसागर तालाब और अन्य क्षेत्र जहां पीने का पानी सप्लाई होता है वहां संबंधित एसडीएम साउंड सिस्टम के माध्यम से टिड्डी दल को रोकने का प्रयास करें।  टिड्डी दल शाम को एक्टिव होता है तथा रात को विश्राम करने कहीं रुकता है। अत: जहां दल  विश्राम करें उसकी तत्काल सूचना दें ताकि उन्हें रसायन दवा छिड़क कर मारा जा सके। जनपद में लगभग 40 लाख टिट्डियो को मारा जा चुका है। 
 
उन्होंने ग्राम स्तर, ब्लॉक स्तर पर गठित निगरानी समितियों के साथ ही ग्राम प्रधान को टिड्डी दल के मूवमेंट की जानकारी राहत कंट्रोल रूम के नंबरों  0510-2371100, 2371101, 2371199  पर तत्काल दिए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी की सतर्कता से इससे बचा जा सकता है। टिड्डी दल की सूचना सही समय पर उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कृषि विभाग की टीम को भी यही निर्देश दिए कि टिड्डी दल के मूवमेंट पर नजर रखें ताकि जनपद में  जायद की फसल, सब्जियों आदि व खेतों को नुकसान से बचाया जा सके, किसान भाई भी सतर्क रहें और अपने खेतों की रखवाली करें और यदि टिड्डी दल आपके खेत को नुकसान पहुंचाता है, तो उससे बचने के लिए ध्वनि का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि निगरानी समिति  को निर्देश देते हुए कहा कि यदि टिड्डी दल आपके क्षेत्र में विश्राम करता है तो उस पर रसायन छिड़काव कर उन्हें मारा जा सकता है।
 
वामसी ने कहा कि टिड्डी दल से निपटने के लिए स्थानीय दल के साथ केंद्र सरकार की ओर से  से आया विशेषज्ञों का दल भी लगातार मूवमेंट पर नजर बनाते हुए उससे निपटने की तैयारी कर रहा है। इस मौके पर सीडीओ निखिल टीकाराम फुंडे, एडीएम राम अक्षयवर चौहान, निदेशक ग्रासलैंड डॉक्टर विजय कुमार यादव, डीडी कृषि कमल कटियार, पीपीओ विवेक कुमार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »