05 Dec 2020, 10:56:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » National

एमपी के सांची में दो 'चौधरियों' के बीच है रोचक मुकाबला

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 30 2020 1:35PM | Updated Date: Oct 30 2020 1:35PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

सांची। मध्यप्रदेश के सांची विधानसभा उपचुनाव में दो 'चौधरियों' के बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल रहा है और यहां से राज्य के स्वास्थ्य मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार डॉ प्रभुराम चौधरी एक बार फिर विधानसभा में पहुंचने के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं। अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित सांची विधानसभा क्षेत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में सात बार, तो पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती तीन सभाएं कर चुकी हैं। इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में तीन सभाएं ले चुके हैं। 
 
दलबदल कर वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ इसी वर्ष मार्च माह में भाजपा में शामिल हुए लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी को अपना मंत्री पद बचाने के लिए हर हाल में यह उपचुनाव जीतना होगा। डॉ चौधरी, सिंधिया के कट्टर समर्थकों में शुमार हैं, इसलिए परोक्ष रूप से यहां पर सिंधिया की प्रतिष्ठा भी दाव पर है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने यहां से पूरन सिंह अहिरवार को मैदान में उतारा है। चुनाव विश्लेषकों की निगाहें इस बात पर भी टिकी हैं कि  अहिरवार चुनाव में कुछ ठोस कर पाएंगे या फिर मुख्य प्रत्याशियों के वोट में सेंध लगाने में सफल होंगे। सांची में कुल 15 प्रत्याशी चुनाव मैदान में।
 
दूसरी ओर मध्यप्रदेश में सिंधिया समर्थक पूर्व विधायकों के भाजपा में शामिल होने के बाद भाजपा के पहले से स्थापित नेताओं और कार्यककर्ताओं के बीच कथित असंतोष की खबरों के बीच सभी की निगाहें सांची क्षेत्र में भाजपा के पूर्व मंत्री डॉ गौरीशंकर शेजवार, उनके पुत्र मुदित शेजवार और उनके समर्थकों पर भी टिकी हैं। दरअसल जब डॉ प्रभुराम चौधरी कांग्रेस में थे, तो वे भाजपा नेता डॉ शेजवार के परंपरागत प्रतिद्वंद्वी थे। वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में डॉ चौधरी ने कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर डॉ शेजवार के पुत्र एवं भाजपा प्रत्याशी मुदित शेजवार को पराजित किया था। इसके पहले भी डॉ शेजवार और डॉ चौधरी कई चुनावों में आमने सामने आ चुके हैं। 
 
राजनैतिक विश्लेषकों के अनुसार डॉ चौधरी का विधानसभा में पहुंचना इस बात पर भी अधिक निर्भर करेगा कि उन्हें दो पूर्व दो मंत्री रामपाल सिंह और सुरेंद्र पटवा का भी कितना 'दिली समर्थन' मिलता है और वे डॉ शेजवार तथा डॉ चौधरी के बीच के रिश्तों को कितना मधुर और प्रगाढ़ बना पाते हैं। डॉ शेजवार एक तरह से राजनीति से संयास लेकर अपने पुत्र मुदित को ही आगे बढ़ाते हुए नजर आते हैं।
 
विदिशा सीट से भाजपा सांसद रमाशंकर भार्गव ने पार्टी में अंतर्कलह से साफ तौर पर इंकार नहीं किया और सफाई देते हुए कहा कि डॉ शेजवार और मुदित शेजवार व्यक्तिगत कारणों से कुछ सभाओं में शामिल नहीं हो पाए थे, लेकिन अब बे सक्रिय हैं। वहीं पूर्व मंत्री एवं क्षेत्रीय चुनाव प्रभारी रामपाल सिंह ने कहा कि 'दूध में शक्कर' घुलने में समय तो लगता हैं।
 
विश्लेषकों का यह भी कहना है कि चूंकि कांग्रेस प्रत्याशी मदनलाल चौधरी और भाजपा के डॉ चौधरी एक ही समाज से आते हैं, इस स्थिति में बसपा प्रत्याशी पूरन अहिरवार की उपस्थिति ने अवश्यक इनकी चिंताएं बढ़ायी हुयी होंगी। इसलिए ये देखना रोचक है कि श्री अहिरवार किस दल के प्रत्याशी के वोट में सेंध लगाने में सफल होते हैं।
 
सांची क्षेत्र के लिए कांग्रेस के मीडिया प्रभारी भूपेंद्र गुप्ता का दावा है कि कांग्रेस उम्मीदवार श्री चौधरी की चुनाव में जीत पक्की है, क्योंकि दलबदल के कारण यहां के मतदाता भाजपा उम्मीदवार डॉ प्रभुराम चौधरी से नाराज हैं। अब चुनाव परिणाम से ही पता चल सकेगा कि किसके दावे में कितना दम है।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »