06 Aug 2020, 21:56:15 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business » Gadgets

बीएसएनएल ने चीन को दिया एक और आर्थिक झटका, कंपनी ने रद्द किया 4जी टेंडर

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 2 2020 11:29AM | Updated Date: Jul 2 2020 11:30AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने 4जी दूरसंचार नेटवर्क उन्नत बनाने को लेकर जारी करोड़ों रुपये की निविदा रद्द कर दी। सरकार ने कंपनी को किसी भी चीनी उपकरण का उपयोग नहीं करने को कहा है, जिसके बाद निविदा रद्द की गई है। 

यह कदम ऐसे समय उठाया गया है जब भारत-चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर हाल में हिंसक झड़प के बाद चीनी वस्तुओं और सेवाओं के बहिष्कार की मांग जोर पकड़ रही है। भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) ने 4जी निविदा रद्द करने को लेकर बुधवार को नोटिस जारी किया। इस बारे में और जानकारी के लिए बीएसएनएल के चेयरमैन के साथ संपर्क नहीं हो सका।

सरकार ने चीनी उपकरण इस्तेमाल करने से किया था मना

बीएसएनएन के नोटिस के अनुसार ‘‘23 मार्च 2020 को जारी निविदा रद्द की जाती है।’’ यह निविदा 4जी मोबाइल नेटवर्क की योजना, इंजीनियिरंग, आपूर्ति, उसे लगाने, परीक्षण, चालू करने और सालाना रखरखाव से जुड़ी थी। इस नेटवर्क को बीएसएनएल के उत्तरी, पूर्वी और दक्षिणी क्षेत्रों तथा एमटीएनएल के दिल्ली और मुंबई सेवा क्षेत्रों में पूरी तरह से मुकम्मल कर लगाया जाना था। इसमें कहा गया है कि उचित प्राधिकरण से मंजूरी के बाद निविदा को रद्द किया गया है। सूत्रों ने जानकारी दी कि सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की बीएसएनएल से 4जी उन्नयन के लिए चीनी उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करने के लिए कहा था। 

अब बीएसएनएल को जारी करना होगा नया टेंडर

इस निर्देश के पालन करने का सीधा मतलब है कि कंपनी को नयी निविदा जारी करनी पड़ेगी। सूत्रों के अनुसार नई निविदा जारी की जाएगी जिसमें मेक इन इंडिया पर जोर होगा। उल्लेखनीय है कि करीब एक पखवाड़े पहले दूरसंचार विभाग ने बीएसएनएल और एमटीएनएल से चीनी दूरसंचार उपकरणों का 4जी उन्न्यन योजना में उपयोग करने से मना किया था।

भारतीय रेलवे ने भी रद्द कर दिया थर्मल कैमरे का टेंडर

भारतीय रेलवे ने चीनी कंपनी से थर्मल कैमरा खरीदने के लिए टेंडर रद्द कर दिया है। रेलवे ने विभिन्न विक्रेताओं से मिली प्रतिक्रिया के बाद यह कदम उठाया गया है। उनका कहना था कि उपकरण की खरीद को लेकर जो चीजें मांगी गई हैं, उससे चीनी कंपनियों को लाभ होगा।

 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »