19 Jan 2021, 00:58:22 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport » Cricket

गृहमंत्री ने युवराज सिंह मामले में पुलिस महानिदेशक को दिए तत्काल कार्रवाई के आदेश

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Nov 27 2020 4:04PM | Updated Date: Nov 27 2020 4:06PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

हिसार। पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह द्वारा दलित समाज के खिलाफ की गई अपमानजनक टिप्पणी किये जाने के मामले में हांसी पुलिस के अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की लेकिन अब हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कलसन की शिकायत पर मामले का संज्ञान लेते हुए हरियाणा के पुलिस महानिदेशक को युवराज सिंह के मामले में तुरंत कार्रवाई के आदेश दिए हैं।

युवराज सिंह प्रकरण में नेशनल अलायंस और दलित ‘हयूमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन हांसी पुलिस द्वारा युवराज के खिलाफ कार्रवाई न करने के बारे में गृहमंत्री अनिल विज को एक शिकायत दी थी, जिस पर विज ने तुरंत कार्रवाई करते हुये हरियाणा के डीजीपी को कलसन की शिकायत पर तत्काल एक्शन लेने के आदेश दिए हैं। इस मामले में हिसार की अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत स्थापित विशेष अदालत ने भी हांसी पुलिस से मामले का स्टेटस रिपोर्ट मांगी हुई है, पुलिस को 22 जनवरी को अदालत में रिपोर्ट पेश करनी है। 

गौरतलब है कि युवराज सिंह ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो चैट के दौरान क्रिकेटर यजुवेंद्र चहल से बात करते हुए अनुसूचित जाति समाज के बारे में एक अपमानजनक टिप्पणी की थी जिस बारे गत दो जून को नेशनल अलायंस फॉर दलित ‘हयूमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने हांसी के पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह को एक शिकायत दी थी। इस शिकायत पर शुरुआत में हांसी शहर के डीएसपी रोहतास सिहाग ने जांच की थी तथा उसके बाद से डीएसपी विनोद शंकर जांच कर रहे हैं। 

कलसन ने विज को भेजी अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि हांसी पुलिस के दोनों जांच अधिकारी डीएसपी रोहतास सिहाग व विनोद शंकर ने अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार अधिनियम की धारा 18 ए व रुल 5 के तहत तुरंत एफआईआर दर्ज करने के कानून के बावजूद इस मामले में एफआईआर दर्ज नहीं की। कलसन ने गृह मंत्री विज को भेजी शिकायत में युवराज सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने व कार्रवाई न करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ एससी/ एसटी एक्ट की धारा 4 व आईपीसी की धारा 217 व 219 के तहत मुकदमा दर्ज करने व कड़ी कार्रवाई की मांग की थी।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »