03 Jun 2020, 12:58:29 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business » Other Business

मात्र 250 रुपए में खुलवायें बेटी के नाम का खाता, शादी के समय मिलेगा 63 लाख

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Feb 24 2020 12:03PM | Updated Date: Feb 24 2020 12:03PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्‍ली। सरकार की एक ऐसी योजना के बारे में बताने वाला हूँ जहाँ आप छोटी सी बचत में ज्यादा का फायदा पा सकते है जी हाँ, आप छोटी-छोटी रकम जमा करके गारंटीड रिटर्न पा सकते हैं दरअसल 10 साल से कम उम्र की बच्ची के लिए उच्च शिक्षा और शादी के लिए बचत करने के लिहाज से केंद्र सरकार ने इसके लिए सुकन्या समृद्धि योजना एक अच्छी निवेश योजना है।
 
निवेश के इस विकल्प में पैसे लगाने से आपको इनकम टैक्स बचाने में भी मदद मिलती है जो लोग शेयर बाजार के जोखिम से दूर रहना चाहते हों और फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) में गिरते ब्याज दर से परेशान हों, सुकन्या समृद्धि योजना उनके लिए बेहतरीन कदम साबित हो सकती है। योजना के तहत खुलवाया गया खाता 21 साल तक वैध रहता है योजना के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपये सालाना जमा कराया जा सकता है इसमें 14 साल तक निवेश करना होता है परिपक्वता अवधि पूरी होने पर राशि आपकी बेटी को मिल जाएगी इसमें जमा की जाने वाली राशि और परिपक्व होने पर मिलने वाले लाभ पर आयकर कानून की धारा 80 सी के तहत छूट मिलती है।
 
सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) बेटियों के लिए केंद्र सरकार की एक छोटी बचत योजना है जिसे बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ स्कीम के तहत लांच किया गया है. छोटी बचत स्कीम में सुकन्या सबसे बेहतर ब्याज दर वाली योजना है। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एकाउंट किसी गर्ल चाइल्ड के जन्म लेने के बाद 10 साल से पहले की उम्र में कम से कम 250 रुपये के जमा के साथ खोला जा सकता है चालू वित्त वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा कराये जा सकते हैं। 
 
 इस योजना में आप जिस तरीके से पैसे निवेश करेंगे उसी तरीके से आपको रिटर्न मिलेगा इस योजना में ब्याज दर भी ज्यादा है निवेश और रिटर्न की ज्यादा जानकारी के लिए आप चार्ट देख सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के वक्त बच्ची का बर्थ सर्टिफिकेट पोस्ट ऑफिस या बैंक में देना जरूरी है। इसके साथ ही बच्ची और अभिभावक के पहचान और पते का प्रमाण भी देना जरूरी है।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »