29 Oct 2021, 01:56:04 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

SBI ने कर दिया धमाका, कम निवेश पर मिल रहा बड़ा फायदा, जानिए डिटेल

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 13 2021 12:50PM | Updated Date: Oct 13 2021 5:37PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। हर इंसान चाहता है कि वह ऐसी जगह निवेश करे, जिससे पैसा भी सुरक्षित रहे और कमाई में भी कोई दिक्कत ना हो। कुछ प्राइवेट कंपनियां ऐसी भी थी, जिन्होंने झांसा देकर लोगों का पैसा तो जमा करा लिया, लेकिन राहत के नाम पर कुछ नहीं मिला। ऐसे में आपकी जिम्मेदारी बनती है कि ऐसी जगह निवेश करो, जिससे पैसा गड्ढे में ना जाए। इस बीच हम आपको ऐसे निवेश के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे पैसा भी नहीं मरेगा और कमाई में ठीक होगी।
 
ऐसे में देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) सुरक्षित विकल्पों में से एक माना जाता है। एसबीआई अपने ग्राहकों को फिक्स्ड डिपॉजिट से लेकर पब्लिक प्रोविडेंट फंड तक में सेविंग का ऑप्शन देता है। बैंक की कुछ स्कीम में निवेश कर आप हर महीने कमाई कर सकते हैं। एसबीआई की इस नाम स्कीम का नाम SBI वार्षिकी जमा है। आइए जानते हैं इस योजना में आपको क्या क्या फायदे मिलते हैं। ये एक तरह की फिक्स्ड डिपॉजिट यानी FD है। इसमें आप बैंक को एक साथ पूरी रकम जमा करा देते हैं और फिर मंथली आपको ब्याज का पैसा मिलेगा। इसमें आपका मूलधन और ब्याज दोनों शामिल होगा। ये योजना 5 साल, 7 साल और 10 साल के लिए है। इसमें आप अपनी समयावधि की जरूरत के अनुसार निवेश कर सकते हैं।
 
इसमें पैसा जमा करने की कोई सीमा नहीं है। इसमें 15 लाख रुपये तक के निवेश पर समय से पैसे निकालने का विकल्प मिलता है। इससे ऊपर की रकम में यह विकल्प नहीं मिलता। इसके अलावा जमा करने वाले व्यक्ति के निधन पर भी समय से पहले यानी मैच्योरिटी से पहले अपना निवेश निकाल सकते हैं। वहीं, 3 से 5 साल से कम के समय पर निवेश करने पर 5.30 फीसद की दर से ब्याज मिलता है। वहीं, 5 साल से अधिक लेकिन 10 साल से कम समय के लिए निवेश करने पर 5.40 प्रतिशत की दर से ब्याज मिलता है। इस स्कीम में निवेश की गई रकम का 75 प्रतिशत ओवरड्राफ्ट या लोन लेने की भी सुविधा मिलती है। एसबीआई इस योजना के तहत यूनिवर्सल पासबुक देता है, जिससे आप ब्रांच के बीच भी पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं।

 

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »