04 Jun 2020, 15:58:32 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android

मुंबई। वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या के 12 लाख के पार पहुंचने तथा 64 हजार से अधिक की मौत के साथ ही देश में इससे पीड़ितों की संख्या के 3300 के पार जाने का दबाव अगले सप्ताह भी शेयर बाजार पर दिख सकता है। बीते सप्ताह में भी शेयर बाजार पर कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन का असर दिखा जिससे बीएसई का सेंसेक्स 7.4 प्रतिशत और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 6.65 प्रतिशत फिसल गया। 

बीएसई का सेंसेक्स समीक्षाधीन अवधि में 2224.64 अंक अर्थात 7.4 प्रतिशत टूटकर 28 हजार अंक से नीचे 27590.95 अंक पर रहा। इस दौरान एनएसई का निफ्टी 576.45 अंक अर्थात 6.65 प्रतिशत गिरकर 8083.80 अंक पर रहा। बीएसई में दिग्गज कंपनियों की तुलना में छोटी और मझौली कंपनियों में बिकवाली का कम दबाव देखा गया। इस दौरान बीएसई का मिडकैप करीब 3 प्रतिशत फिसलकर 10219.05 अंक पर रहा जबकि स्मॉलकैप 0.93 प्रतिशत उतरकर 9409.04 अंक पर रहा। 

घरेलू स्तर पर कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या में पिछले सप्ताह जबरदस्त तेजी रही है। अगले सप्ताह भी इसमें बढोतरी की आशंका जतायी जा रही है क्योंकि जिन लोगों को इससे पीड़ितों के संपर्क में आने के कारण अलग थलग रखा गया है उनमें से भी कुछ इससे संक्रमित हो सकते हैं। बाजार पर इसका असर देखने को मिल सकता है। इसके मद्देनजर विश्लेषकों ने निवेशकों से बाजार से तत्काल दूरी बनाये रखने की अपील की है क्योंकि बीते सप्ताह में विदेशी संस्थागत निवेशकों ने 10486.31 करोड़ रुपये के बिकवाल रहे हैं जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 6902.75 करोड़ रुपये की  लिवाली की जिससे बाजार में गिरावट को थामने में मदद मिली।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »