24 Nov 2020, 22:59:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Madhya Pradesh

शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा- हमें 'भूखे-नंगे'...

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 13 2020 12:51AM | Updated Date: Oct 13 2020 12:51AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस के बीच बयानबाज़ी का नया दौर शुरू हो गया है। कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर ने कल बयान दिया कि कमलनाथ देश के दूसरे नंबर के उद्योगपति हैं और शिवराज तो 'नंगे-भूखे' हैं। इसका शिवराज सिंह चौहान ने आज जवाब दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा, "हां हम नंगे-भूखे ही भले, हम गरीबों का कष्ट जानते हैं, उनकी सेवा में दिनोंरात लगे रहते हैं। तुमने कभी गरीबों को देखा है, भूख देखी है, धूल देखी है, बीमारी देखी है, कीचड़ देखा है, तुम क्या गरीबों का दर्द जानों?"

शिवराज सिंह चौहान ने कहा, "हमें नंगे-भूखे ही रहने दो, हम नंगे भूखे हैं इसलिए सहरिया बहनों के खाते में एक हजार रुपये डलवाते हैं। हम बच्चों की फीस भरवाते हैं ताकि वह आगे बढ़ जाएं। हम नंगे भूखें इसलिए संबल योजना मामा ने बनवाई औऱ तय किया कि गरीब बहन बेटा-बेटी को जन्म देगी तो जन्म देने के पहले 4 हजार और बाद मे 12 हजार रुपये देंगे।"

कमलनाथ पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, "उद्योगपति कमलनाथ तुमने तो बच्चों की फीस छीन ली। बहनों के पैसे छीन लिए। हम नंगे-भूखे हैं इसलिए बेटियों का कन्यादान करवाते हैं। तुमने तो 51 हजार बोलकर ढेला दे दिया। जा उद्योगपति तेरा उद्योग तुझे मुबारक, हम नंग-भूखे हैं इसलिए किसानों को जीरो परसेंट ब्याज पर पैसे देते हैं। हम नंगे भूखे हैं इसलिए प्रधानमंत्री जी 6 हजार रुपये दे रहे थे हमने उसमें 4 हजार रुपये जोड़कर किसानों को 10 हजार रूपए दे रहे हैं। हम नंगे-भूखे हैं इसलिए बच्चों को लैपटॉप देते हैं, स्मार्टफोन देते हैं।"

शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा, "एक्सीडेंट में गरीब की मौत हो जाने पर तो बहन के लिए हम चार लाख रुपये देते हैं ताकि जिंदगी की गाड़ी पटरी पर चलती रहे। सामान्य मौत पर दो लाख, गरीब की मौत के कफन के लिए भी पांच हजार रुपये देते हैं। हम नंगे-भूखे हैं तो बुजुर्गों को तीर्थयात्रा करवाते हैं। गरीबों के पक्के मकान बनवाते हैं। तुम्हारी अमीरी तुम्हें मुबारक कमलनाथ। ए बंगले वालों हम नंगे-भूखों पर अंगुली मत उठाओ, हमें नंगे ही रहने दो, हमें भूखे ही रहने दो ताकि जिंदगीभर गरीबों की सेवा करते रहें।"

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »