29 Mar 2020, 16:47:12 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android

मुंबई। बजट से निराश निवेशकों की बिकवाली और विदेशों से मिले नकारात्मक संकेतों से पिछले सप्ताह घरेलू शेयर बाजार में कोहराम रहा और बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 4.51 प्रतिशत तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 5.03 प्रतिशत लुढ़क गया। यह शेयर बाजारों में 16 महीने की सबसे बड़ी गिरावट है। इससे पहले 05 अक्टूबर 2018 को समाप्त सप्ताह में सेंसेक्स 4.96 प्रतिशत और निफ्टी 5.03 प्रतिशत टूटा था।
 
सप्ताह के दौरान छह कारोबारी दिवस में से पाँच में बाजार में तेजी रही जबकि बुधवार को इसमें गिरावट देखी गयी। इस दौरान सेंसेक्स 1,877.66 अंक का गोता लगाकर शनिवार को 39,735.53 अंक पर और निफ्टी 616.35 अंक लुढ़ककर 11,661.85 अंक पर बंद हुआ। मझौली और छोटी कंपनियों में भी बड़ी गिरावट रही। बीएसई का मिडकैप 702.89 अंक यानी 4.44 प्रतिशत टूटकर 15,119.65 अंक पर और स्मॉलकैप 501.26 अंक यानी 3.38 प्रतिशत की गिरावट में 14,344.70 अंक पर आ गया।
 
आने वाले सप्ताह में विनिर्माण और सेवा क्षेत्र के लिए आईएचएस मार्किट के आँकड़े जारी होने हैं। इनका असर बाजार पर देखने को मिलेगा। साथ ही विदेशी बाजारों की हलचल भी घरेलू बाजार पर प्रभाव डालेगी। बीते सप्ताह शुरुआती पाँच दिन विदेशी बाजारों के दबाव में घरेलू बाजार टूटे। नोवल कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से विदेशों में शेयर बाजार गिरावट में रहे। अंतिम कारोबारी दिवस पर शनिवार को बजट के बाद सेंसेक्स एक ही दिन में करीब एक हजार अंक टूट गया। 
 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »