07 May 2021, 03:48:17 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के जिन जिलों में संक्रमण अधिक है वहाँ कोरोना कर्फ्यू सख्ती से लागू किया जाए। हमें हर हालत में वहाँ संक्रमण की चेन तोड़ना है। चौहान आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में सभी जिलों से प्रभारी मंत्री, प्रभारी अधिकारी तथा सभी संबंधित उपस्थित थे। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में 18 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्तियों का वैक्सीनेशन 5 मई से प्रारंभ किया जा रहा है। पहले दिन उन व्यक्तियों को ही वैक्सीन लगेगी जो पहले पोर्टल पर अपना पंजीयन कर लेंगे। वैक्सीन की संख्या सीमित होने के कारण सीमित व्यक्तियों को ही वैक्सीन लग पाएगी। प्रदेश को जैसे-जैसे वैक्सीन के डोजेज प्राप्त होंगे वैक्सीनेशन किया जाएगा। 

जिलेवार समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जबलपुर में कोरोना के इलाज के लिए पर्याप्त बेड्स की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। जबलपुर में कुल 4906 एक्टिव मरीज हैं, यहाँ की 7 दिनों की औसत पॉजिटिविटी रेट 29 फीसदी तथा रिकवरी रेट 86 फीसदी है। चौहान ने स्पष्ट निर्देश दिए कि यह सुनिश्चित किया जाए कि निजी अस्पताल इलाज के लिए निर्धारित शुल्क से किसी भी हालत में अधिक शुल्क न लें। एंबुलेंस की दरें भी निर्धारित की जाएं। 

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सोशल मीडिया आदि पर गलत संदेश डालने वाले तथा भ्रम फैलाने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि भोपाल में अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों के लिए सामाजिक संगठनों के सहयोग से नि:शुल्क आहार सेवा योजना प्रारंभ की जा रही है। जिलेवार समीक्षा में पाया गया इंदौर में कोरोना के सर्वाधिक 1805 नए प्रकरण आए हैं। 

भोपाल में 1673, ग्वालियर में 1096, जबलपुर में 711, रतलाम में 355, रीवा में 330, उज्जैन में 325, मंदसौर में 278, सीधी में 252, सतना में 248, धार में 240, सागर में 233, अनूपपुर में 223, शिवपुरी में 220, नरसिंहपुर में 216 तथा टीकमगढ़ में 205 कोरोना के नए प्रकरण आए हैं। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि गाइड लाइन के अनुसार कोरोना से स्वस्थ होने के पश्चात 4 से 6 सप्ताह बाद कोरोना का वैक्सीन लगवाया जा सकता है। इसमें कोई नुकसान नहीं है।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »