12 Jun 2021, 16:42:46 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

योगी सरकार का दावा, प्रदेश में मांग के अनुरूप हुयी ऑक्सीजन आपूर्ति

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 14 2021 12:16AM | Updated Date: May 14 2021 12:19AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने दावा किया है कि उसने ऑक्सीजन की मांग और आपूर्ति में  फर्क खत्म कर दिया है और अब जितनी मांग है,उससे ज्यादा ऑक्सीजन उठाई जा रही है। आधिकारिक सूत्रों ने गुरूवार को बताया कि मार्च/अप्रैल में कोरोना की आयी दूसरी लहर की संक्रमण दर पहले की तुलना में 30 से 50 गुना संक्रामक थी। इसी अनुपात में ऑक्सीजन की चौतरफा मांग भी निकली। मांग में अभूतपूर्व वृद्धि के नाते ऑक्सीजन की कमी को लेकर यूपी समेत देश के अधिकांश राज्यों को परेशान होना पड़ा।

ऑक्सीजन की इस कमी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दूर करने का बीड़ा उठाया। उन्होंने जो योजना तैयार की कि उसके चलते आज यूपी में ऑक्सीजन की कहीं कोई कमी नहीं है। उन्होने कहा कि बीते 24 घंटे में होम आइसोलेशन में 3471 कोरोना संक्रमितों को 26.44 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराई गई। योगी की देखरेख में चिकित्सा विशेषज्ञों की सलाह पर टीम -9 के अफसरों की टीम के जुनून के चलते प्रदेश में ना सिर्फ ऑक्सीजन की कमी खत्म हुई है बल्कि अब ऐसी व्यवस्था की जा रही है, जिसके चलते यूपी में कभी भी किसी अस्पताल को ऑक्सीजन की कमी होने ही नहीं पायेगी।

इस बारे चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह जाना कि ऑक्सीजन की कमी क्यों हो रही है और इसे कैसे दूर करने के लिए क्या -क्या किया जाए। इस पर उन्हें बताया गया कि मेडिकल ऑक्सीजन विश्व स्वास्थ्य संगठन की आवश्यक दवाओं की सूची में शामिल है। कोरोना वायरस मरीजों के फेफड़ों को क्षति पहुंचाता है, जिससे बॉडी में ऑक्सीजन लेवल गिर जाता है। तब जान बचाने के लिए पेशेंट को ऑक्सीजन देने की जरूरत पड़ती है।

कोरोना की दूसरी लहर में मेडिकल ऑक्सीजन की मांग बहुत ज्यादा बढ़ी है और खपत भी। लेकिन आपूर्ति में बाधा से कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी सामने आ रही है। ऑक्सीजन के वितरण की व्यवस्था की कमी इसकी कमी का सबसे प्रमुख कारण है। यह जानने के बाद मुख्यमंत्री ने भविष्य की जरूरतों को  ध्यान में रखते हुए सभी जिलों में ऑक्सीजन की उपलब्धता के लिए ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने का फैसला किया है। इसके लिए बजट भी सरकार ने जारी कर दिया है। इसके साथ ही केन्द्र सरकार, राज्य सरकार और निजी क्षेत्र द्वारा प्रदेश में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की कार्यवाही भी शुरू की गई है। विभिन्न पीएसयू भी अपने स्तर पर प्लांट स्थापित करा रही हैं। इसके साथ ही गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग और आबकारी विभाग द्वारा ऑक्सीजन जनरेशन की दिशा में विशेष प्रयास किए जा रहे हैं।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »