03 Apr 2020, 14:30:40 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport

आईएसएल-6 : जीत के साथ सीजन की विदाई चाहेगी हैदराबाद एफसी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Feb 20 2020 12:55AM | Updated Date: Feb 20 2020 12:55AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

गुवाहाटी। हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के छठे सीजन की अंकतालिका में सबसे निचली दो टीमें नॉर्थ ईस्ट यूनाइटेड एफसी और हैदराबाद एफसी गुरुवार को यहां इंदिरा गांधी एथलेटिक्स स्टेडियम में आमने-सामने होंगी। नॉर्थईस्ट और हैदराबाद, दोनों ही टीमों के लिए यह सीजन काफी खराब रहा है और उन्होंने इस सीजन में अब तक क्रमश दो और एक मैच ही जीते हैं। दोनों टीमें पहले ही प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो चुकी हैं और अब वे केवल सांत्वना भरी जीत दर्ज करना चाहेंगी। वहीं, मेहमान टीम हैदराबाद का इस सीजन का यह अंतिम मैच होगा और उसकी कोशिश जीत के साथ सीजन से विदाई लेने की होगी।
 
नॉर्थईस्ट 16 मैचों से 13 अंक लेकर इस समय नौवें नंबर पर है और अगर वह यह मैच जीतती है तो फिर जमशेदपुर और केरला ब्लास्टर्स को पीछे छोड़कर सातवें स्थान पर पहुंच सकती है। नॉर्थईस्ट की टीम पूरे सीजन अपने खिलाड़ियों की चोट से जूझती रही है।  टीम के अंतरिम कोच खालिद जमील ने कहा, हम हैदराबाद एफसी के बारे में नहीं सोच रहे हैं। घर में यह हमारा आखिरी मैच है। हम तीन अंक हासिल करने के लिए उतरेंगे। हम उन खिलाड़ियों के बारे में ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं, जो निलंबित हैं। यह हमारे क्षेत्र से बाहर है। हाईलैंर्ड्स के नाम से मशहूर नॉर्थईस्ट ने इस सीजन में अपना पिछला मैच 12 मैच पहले संयोग से हैदराबाद एफसी के खिलाफ ही जीता था।
 
वहीं, हैदराबाद के 17 मैचों से केवल सात ही अंक है। हैदराबाद अब सीजन के अपने अंतिम मैच में जीत के साथ इस सीजन का विदाई चाहेगी। इसके अलावा अंतरिम कोच जेवियर लोपेज और उनकी टीम आईएसएल सीजन में सबसे कम अंक के साथ सीजन की समाप्ति करने के रिकॉर्ड से बचना चाहेगी।  हैदराबाद ने इस सीजन में अब तक केवल एक ही मैच जीता है और टीम एक बार भी क्लीन शीट हासिल नहीं कर पाई है। टीम के पास अब इस सीजन में अंतिम मौका है। हैदराबाद को इस मैच में डिफेंडर मैथ्यू किलगेलोन और गोलकीपर कमलजीत सिंह के बिना ही मैदान पर उतरना होगा। लोपेज ने कहा, यह हमारा अच्छा सीजन नहीं है। जब मैं यहां आया था तो खिलाड़ियों की स्थिति सही नहीं थी। लेकिन उन्हें लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया गया। हम लड़े और हमने मुंबई सिटी तथा बेंगलुरु एफसी को ड्रॉ पर रोका। गोवा के खिलाफ केवल एक मैच ऐसा रहा, जिसमें हमने प्रतिस्पर्धा नहीं की। लेकिन अब अंतिम मैच में हर कोई तीन अंक लेने के लिए उत्साहित है। 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »