30 Jul 2021, 23:32:36 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport

टेस्ट में रन बनाने वाले खिलाड़ियों को हमेशा याद रखेंगे लोग: सौरव गांगुली

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 24 2021 9:33PM | Updated Date: Jun 24 2021 9:33PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मुंबई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा है कि टेस्ट क्रिकेट में रन बनाने वाले खिलाड़ियोंको लोग हमेशा याद रखेंगे। सौरव ने स्टार स्पोर्ट्स पर टेस्ट के क्रिकेट के मुख्य प्रारूप होने के महत्व के बारे में अपने विचार साझा करते हुए कहा, ‘‘ जब हमने बचपन में क्रिकेट खेलना शुरू किया था तब टेस्ट क्रिकेट सबसे अच्छा क्रिकेट प्रारूप था और मुझे लगता है कि यह अभी भी मुख्य प्रारूप है, इसलिए इसे टेस्ट क्रिकेट कहा जाता है। मुझे लगता है कि अगर कोई खिलाड़ी सफल होना चाहता है और खेल पर अपनी छाप छोड़ता है तो टेस्ट क्रिकेट सबसे बड़ा मंच है जो उसे मिल सकता है। लोग उन खिलाड़ियोंको हमेशा याद रखेंगे जो अच्छा खेलते हैं और टेस्ट मैचों में रन बनाते हैं। अगर आप क्रिकेट के सभी सबसे बड़े नामों को देखें तो पिछले 40-50 वर्षों में उन सभी के पास सफल टेस्ट रिकॉर्ड हैं। ’’ बीसीसीआई अध्यक्ष ने अपने टेस्ट पदार्पण की वर्षगांठ के मौके पर लॉर्ड्स में अपने टेस्ट पदार्पण के किस्से साझा किए। उन्होंने कहा, ‘‘ बहुत लोगों को लॉर्ड्स में अपना पहला टेस्ट खेलने को नहीं मिलता है लेकिन मैंने अपना पदार्पण लॉर्ड्स मैदान पर किया था।  
 
मुझे याद है कि उस समय मैं प्वाइंट के क्षेत्र में क्षेत्ररक्षण कर रहा था। लॉर्ड्स में एक खचाखच भरा स्टेडियम होता था और यह मेरे लिए हमेशा एक सुखद तरीके से रन बनाने वाला मैदान रहा है, हर बार जब मैं अपने पदार्पण के बाद से वापस गया हूं। मैं पहले दिन लंबे कमरे से नीचे उतरकर हैरान था और सौभाग्य से हमने क्षेत्ररक्षण किया। अन्यथा मुझे एक बल्लेबाज के तौर पर तीन नंबर पर बल्लेबाजी करनी थी। शनिवार को मेरा टेस्ट शतक बना, जो शायद मेरे टेस्ट क्रिकेट करियर का सबसे अच्छा दिन है। उस वक्त स्टेडियम में हर सीट भरी हुई थी। ’’ सौरव ने कहा, ‘‘ यह मेरा टेस्ट पदार्पण था और 100 तक पहुंचना था। इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता और उस टेस्ट मैच की मानसिकता उल्लेखनीय थी। बैक-स्टैंड्स पर मारे गए हर एक शॉट के लिए मुझे प्रशंसकों का प्रोत्साहन मिला और फिर चाय के समय 100 पर समाप्त करना बहुत खास था। मुझे याद है कि चाय के दौरान मैं 100 के स्कोर पर बल्लेबाजी कर रहा था और मैं शारीरिक से ज्यादा मानसिक रूप से थक गया था, क्योंकि पहले शतक की भावनाएं, खुशी, ऊंचाइयां आपको भी थका देती हैं। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »