22 Oct 2021, 01:46:59 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport

Tokyo Paralympics कृष्णा नागर, बैडमिंटन में भारत को दिलाया Gold- DM साहब ने जीता 'सिल्वर'

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 5 2021 11:33AM | Updated Date: Sep 5 2021 11:33AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

टोक्यो। जापान की राजधानी टोक्यो में खेले जा रहे पैरालंपिक खेलों के आखिरी दिन भी भारतीय खिलाड़ियों के मेडल जीतने का सिलसिला जारी है। रविवार को पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी कृष्णा नागर ने SH6 कैटेगरी में गोल्ड हासिल कर भारत की झोली में 19वां मेडल डाल दिया। इसके साथ ही भारत ने इन खेलों में कुल पांचवां गोल्ड मेडल हासिल कर लिया है। यह भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। कृष्णा नागर से पहले सुहास यथिराज ने बैडमिंटन के SL4 कैटेगरी में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचा था। 
 
टोक्यो पैरालिंपिक्स के आखिरी दिन नोएडा के DM साहब छा गए। नोएडा के जिलाधिकारी सुहास यथिराज ने टोक्यो पैरालंपिक की पुरुष एकल एसएल 4 क्लास बैडमिंटन स्पर्धा में रजत पदक जीत लिया है। वर्ल्ड नंबर 3 सुहास ने SL4 इवेंट के गोल्ड मेडल मैच में कड़ा संघर्ष किया, लेकिन वह फ्रांस के एल माजुर से 21-15, 17-21, 15-21 से हार गए।
 
फ्रांस के लुकास मजूर शुरुआत से ही गोल्ड मेडल मैच जीतने के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। और, इसकी वजह भी थी। दरअसल, टोक्यो पैरालिंपिक्स में वो पहले भी सुहास यथिराज को हरा चुके थे और इसके अलावा उनकी रैंकिंग भी नंबर वन थी। हालांकि, सुहास के पास फाइनल जीतकर पहले मिली हार का बदला लेने का पूरा मौका था, लेकिन इस मौके को वो भुना नहीं सके और इस तरह चांदी के मेडल पर भी सोने का रंग नहीं चढ़ सका।
 
भारत के सुहास यथिराज और फ्रांस के लुकास मजूर के बीच गोल्ड मेडल के लिए बैडमिंटन की लड़ाई रोमांचक चली। ये जंग 3 गेमों में जाकर खत्म हुआ। पहली बाजी भारतीय पैराशटलर के नाम रही, जो उन्होंने 21-15 से जीता। उनकी इस जीत ने करोड़ों हिंदुस्तानियों के अरमानों को नया आसमान दे दिया। इसके बाद दूसरे गेम भी जब वो बढ़त बनाते दिखे तो लगा कि गोल्ड अब भारत की झोली में गिरना तय है। लेकिन तभी फ्रेंच पैरा-शटलर ने अपना गियर बदलते हुए दूसरे गेम को 21-17 से जीत लिया। अब सारा दारोमदार तीसरे और फाइनल गेम पर आकर टिक गया। इस गेम के जीतने का मतलब था, गोल्ड मेडल पर कब्जा, जो कि सुहास यथिराज नहीं कर सके। तीसरे गेम में सुहास को 21-15 से हार का सामना करना पड़ा।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »