02 Mar 2021, 01:21:36 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » World

आगे कई चुनौतियां हैं, इनसे निपटना आसान नहीं होगा : कमला हैरिस

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jan 19 2021 4:21PM | Updated Date: Jan 19 2021 4:21PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

वाशिंगटन। अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने सोमवार को माना कि 20 जनवरी को जो बाइडन के अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने के बाद सरकार के सामने आगे कई चुनौतियां होंगी और उन सबसे निपटना आसान नहीं होगा।
बाइडन 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद व्हाइट हाउस में प्रवेश करेंगे। उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती कोविड-19 महामारी के कारण चरमरा रही अर्थव्यवस्था को दुरूस्त करने की होगी। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण देश में 3,98,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और लाखों लोग आर्थिक दिक्कतों का सामना कर रहे हैं।
 
मार्टिन लूथर किंग जूनियर की जयंती पर मनाये जाने वाले 'डे ऑफ सर्विस' के मौके पर सोमवार को एनाकोस्टिया में गैर सरकारी संगठन 'मार्थाज टेबल' में आयोजित कार्यक्रम में हैरिस ने पत्रकारों से कहा, 'हमें बहुत सारा काम करना है। इन चुनौतियों से निपटना इतना आसान नहीं होगा।' हर साल जनवरी के तीसरे सोमवार को मार्टिन लूथर किंग जूनियर की जयंती आयोजित की जाती है। मार्टिन लूथर किंग ने 1950 और 60 के दशक में अश्वेतों के अधिकारों के लिए अहिंसक प्रदर्शन किए थे।
 
हैरिस ने कहा, 'हमने पहले भी चर्चा की है। जो (बाइडन) ने टीकाकरण, कामकाजी लोगों और परिवारों को राहत देने के लिए योजना बतायी है। बहुत कुछ करना है। कुछ लोग कहते हैं कि हमारा महात्वाकांक्षी लक्ष्य है। लेकिन हमारा मानना है कि कड़ी मेहनत और अमेरिकी संसद के सदस्यों की मदद से हम लोग इसे कर पाएंगे।'
 
उन्होंने कहा, 'मैं अमेरिका की अगली उपराष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने का इंतजार कर रही हूं। मैं फख्र के साथ सिर बुलंद कर वहां जाऊंगी और शपथ ग्रहण में हिस्सा लूंगी।' कमला हैरिस और उनके पति डगलस एमहॉफ सोमवार को एनाकोस्टिया में 'मार्थाज टेबल' के कार्यक्रम में मौजूद थे। इस दौरान दंपति ने लोगों के लिए खाद्य सामग्री पैक किया। हैरिस ने कहा, 'हमलोग यहां सेवा कर रहे कार्यकर्ताओं की मदद के लिए आए हैं। 'डे ऑफ सर्विस' के मौके पर यहां जैक एंड जिल से कई स्कूली छात्र आए हैं। इस दिन हम लोग डॉ. मार्टिन लूथर किंग जूनियर को श्रद्धांजलि देते हैं और उनके योगदान को याद करते हैं।'
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »