28 Nov 2021, 13:27:27 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Delhi

दिल्ली मेट्रो ने 3.55 मिलियन कार्बन क्रेडिट की बिक्री से 19.5 करोड़ कमाए

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 26 2021 11:51AM | Updated Date: Sep 26 2021 11:51AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने 3.55 मिलियन कार्बन क्रेडिट की बिक्री से ? ??19.5 करोड़ की एक कमाई की है, जो उसने 2012 से 2018 तक छह वर्षों की अवधि में एकत्र किया था।  दिल्ली मेट्रो ने रविवार को यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी दी है।   

डीएमआरसी जलवायु परिवर्तन लाभों की मात्रा निर्धारित करने में देश में अग्रणी रहा है। इसके संचालन से इसके पास ऊर्जा दक्षता की दिशा में ऋण उन्मुख कई समर्पित परियोजनाएं हैं। दिल्ली मेट्रो,संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्वच्छ विकास तंत्र (सीडीएम) के तहत 2007 में,  पंजीकृत होने वाली दुनिया की पहली मेट्रो या रेलवे परियोजना बन गई, जिसने दिल्ली मेट्रो को अपनी पुनर्योजी ब्रेंिकग परियोजना के लिए कार्बन क्रेडिट का दावा करने में सक्षम बनाया। सीडीएम एक परियोजना है जो क्योटो प्रोटोकॉल के तहत आधारित ग्रीन हाउस गैस (जीएचजी) ऑफसेट तंत्र उच्च आय वाले देशों में सार्वजनिक और निजी क्षेत्र को निम्न या मध्यम आय वाले देशों में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन-घटाने वाली परियोजनाओं से कार्बन क्रेडिट खरीदने का अवसर प्रदान करता है। सीडीएम परियोजनाएं सर्टिफाइड एमिशन रिडक्शन (सीईआर) नामक उत्सर्जन क्रेडिट उत्पन्न करती हैं, जिन्हें तब खरीदा और कारोबार किया जाता है। एक सीईआर एक टन कार्बन डाईआक्साइड उत्सर्जन में कमी के बराबर है।
 
सीडीएम मेजबान देश को सतत विकास लाभ देने में मदद करता है। सीडीएम परियोजनाओं का प्रबंधन जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन (यूएनएफसीसीसी) द्वारा किया जाता है, जो जलवायु प्रणाली के साथ खतरनाक मानवीय हस्तक्षेप से निपटने के लिए स्थापित एक संस्था है। दिल्ली मेट्रो की पहली सीडीएम परियोजना पुनर्योजी ब्रेंिकग तकनीक पर आधारित थी। इस परियोजना से 2012 तक उत्पन्न कार्बन क्रेडिट ? 9.55 करोड़ में बेचे गए। दूसरी सीडीएम परियोजना माडल शिफ्ट के सिद्धांत पर आधारित है। इस परियोजना का सार यह है कि मेट्रो से यात्रा करने वाले लोगों का कार्बन फुटप्रिंट परिवहन के अन्य साधनों द्वारा की गई समान यात्रा की तुलना में बहुत कम है। दिल्ली मेट्रो ने अब तक चार परियोजनाओं को पंजीकृत किया है जैसे पुनर्योजी ब्रेंिकग परियोजना, मोडल शिफ्ट परियोजना, एमआरटीएस पीओए परियोजना और यूएनएफसीसीसी के साथ सौर परियोजना, जो सभी दुनिया में अपनी तरह की पहली हैं। इसके अलावा, 2014 में, दिल्ली मेट्रो भी प्रतिष्ठित 'गोल्ड स्टैंडर्ड फाउंडेशन', स्विट्जरलैंड के साथ पंजीकृत होने वाली दुनिया की पहली मेट्रो और रेलवे प्रणाली बन गई, जो कार्बन शमन परियोजनाओं के लिए विश्व स्तर पर स्वीकृत प्रमाणन मानक भी है। डीएमआरसी ने अब तक गोल्ड स्टैंडर्ड फाउंडेशन के साथ चार परियोजनाओं को पंजीकृत किया है। दिल्ली मेट्रो 2015 से, भारत में अन्य मेट्रो प्रणालियों को सीडीएम परामर्श सेवाएं भी प्रदान कर रही है, जिससे वे अपनी परियोजना से कार्बन क्रेडिट अर्जित कर सकें। पहले से ही गुजरात मेट्रो, मुंबई मेट्रो और चेन्नई मेट्रो आदि ने दिल्ली मेट्रो के प्रोग्राम आॅफ एक्टिविटीज (पीओए) परियोजना के तहत अपनी परियोजनाओं को पंजीकृत किया है, जिससे वे कार्बन क्रेडिट अर्जित कर सकें और पेरिस समझौते के अनुपालन में भारत के राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (आईएनडीसी) में योगदान कर सकें।                                                                                                                                                                                                                                  
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »