19 Apr 2021, 17:10:17 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

जगाधरी-पांवटा साहिब रेल लाइन का नए सिरे से होगा सर्वेक्षण : पीयूष गोयल

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Mar 2 2021 12:06AM | Updated Date: Mar 2 2021 12:07AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

शिमला। हिमाचल प्रदेश में सिरमौर जिले के पांवटा साहिब औद्योगिक क्षेत्र को विशेष तौर पर ध्यान में रखते हुए जगाधरी-पांवटा साहिब के बीच नई रेल लाइन के निर्माण के लिए नए सिरे से सर्वेक्षण किया जाएगा। इसके अलावा, कालका-शिमला ट्रैक पर रेल गति में सुधार की सम्भावनाएं तलाशने के लिए आरडीएसओ द्वारा अध्ययन भी किया जाएगा। केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह जानकारी आज यहां पत्रकारों को दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर भी उपस्थित रहे।

उन्होंने कहा कि इस रेलवे लाईन से औद्योगिक क्रांति आएगी और प्रदेश में रोजगार के साधन भी उपलब्ध होगें। कालका-शिमला ट्रैक पर रेल गति में सुधार की सम्भावनाएं तलाशने के लिए आरडीएसओ द्वारा अध्ययन भी किया जाएगा। केन्द्रीय रेल मंत्री ने कहा कि प्रदेश को वर्ष 2021-22 में अधोसंरचना परियोजनाओं और सुरक्षा कार्यों के लिए 770 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है जो वर्ष 2009-14 के दौरान आवंटित औसत बजट से 613 प्रतिशत अधिक है।

कालका-शिमला ट्रैक पर दौड़ने वाली ट्रेनों के सभी डिब्बे बदले जाएंगे। प्राकृतिक नजारों के लिए डिब्बों में बड़े शीशे लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने रेलवे के आधारभूत ढांचे और अन्य खर्च का बजट दिया गया। मोदी सरकार ने सात गुना बजट दिया है। पिछले साल की तुलना में मालगाड़ियों ने ज्यादा मामल ढोया गया है। कोरोना काल में साल में 110 करोड़ टन माल की ढुलाई की गई। यूपीए ने वर्ष 2009 से 2014 तक हर साल 108 करोड़ रुपये दिए थे। जबकि केंद्र की पीएम मोदी सरकार ने हिमाचल को 2014 से अब तक हर साल 280 करोड़ रुपये दिए हैं। प्रदेश में चल रहे रेल विस्तार के कार्यों में तेजी लाई जाएगी।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में तीन नई लाइनों के प्रोजेक्ट का कार्य चल रहा है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इन कार्यों में तेजी लाई जाए। इसके इलावा पठानकोट-जोगिन्द्रनगर के डिब्बे भी नई डिजायन के होंगे। किसान आंदोलन के बारे में गोयल ने कहा कि अब तो पूरे देश ने देख लिया है कि नरेंद्र मोदी किसानों के जीवन में नई उमंग लाने का काम कर रहे हैं। उसके साथ में यह नए कानून पूरी पुरानी व्यवस्थाओं को बरकरार रखते हुए है। नए बाजार किसानों के लिए स्थापित किए गए हैं। पहले तो दूर-दूर तक मंडियां किसानों के लिए होती थी जिन्हें अब कहीं भी अपना सामान बेचने के लिए नई मंडी उपलब्ध कराई गई हैं। पहले उन्हें घाटे में ही सामान अपना बेचना पड़ता था।

नए कानून किसान विरोधी नहीं बल्कि किसान हितेषी हैं। उन्होंने विपक्ष के लोगों को कहा कि किसानों को भड़काना बंद करें। वरना विपक्ष के नेता बनने लाईक नहीं रहेगें। मुख्यमंत्री ने कहा कि कालका-शिमला रेल डिब्बों का डिजाइन पर्यटकों के अनुभव को बेहतर बनाने के उद्देश्य से किया जाना चाहिए। उन्होंने केन्द्रीय रेल मंत्री से विस्टा डोम जैसे डिब्बे उपलब्ध करवाने का आग्रह किया ताकि सैलानी पर खूबसूरत घाटी का मनमोहक नजारा देख सकेंगे।

उन्होंने कहा कि भान्नुपल्ली-बैरी और चण्डीगढ़ रेल लाइन के कार्य में भी तेजी लाने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए। उन्होंने भान्नुपल्ली-बैरी रेल लाइन के लिए 405 करोड़ और चण्डीगढ़-बद्दी रेल लाइन के लिए 200 करोड़ रुपये आवंटित करने के लिए केन्द्रीय मंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि चण्डीगढ़-बद्दी रेल लाइन प्रदेश में औद्योगिक गतिविधियों को बल देने में अहम भूमिका निभाएगी क्योंकि औद्योगिक इकाइयां इस रेल लाइन के सहयोग से कच्चे माल की ढुलाई करने के साथ-साथ विभिन्न स्थानों पर उत्पादों को आसानी से पहुंचा पाने में समर्थ होंगी।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »