02 Mar 2021, 13:21:07 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Delhi

राष्ट्रीय शिक्षा नीति नए भारत का विज़न डॉक्यूमेंट : निशंक

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jan 23 2021 12:27AM | Updated Date: Jan 23 2021 12:28AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी के नए भारत का 'विज़न डॉक्यूमेंट' है और पूरे विश्व को भारत से बहुत उम्मीदें हैं और हम ‘टैलेंट और टेक्नोलॉजी’ के माध्यम से दुनिया को बहुत कुछ दे सकते हैं। 

डॉ निशंक ने कुवैत में भारतीय प्रवासी परिषद द्वारा आयोजित राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर आयोजित कार्यक्रम को ऑनलाइन संबोधित करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति भारत को ज्ञान महाशक्ति एवं एक वैश्विक नेता के रूप में स्थापित करेगी क्योंकि यह अतीत के साथ साथ भविष्य को भी जोड़ती है और यह समग्र एवं बहु-विषयक शिक्षा का मार्ग प्रशस्त करती है।

केंद्रीय मंत्री ने इस आयोजन पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि कुवैत में भारतीय प्रवासी परिषद में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के संबंध में यह कार्यक्रम इस बात का सूचक है कि हमारे प्रवासी भारतीय, देश से दूर होकर भी भारत की मिट्टी और भारत की नीतियों से गहराई से जुड़े हुए हैं और यहां होने वाले हर घटनाक्रम के प्रति जागरूक है।

डॉ निशंक ने कहा कि हमने सकारात्मक मानसिकता के साथ एक व्यापक चिंतन, मंथन एवं विमर्श के उपरांत राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू किया गया है। इस नीति में हर भारतीय की आकांक्षाएं हैं, स्वप्न है और एक दूरगामी सोच है जो हिंदुस्तान को विश्व पटल पर 'ज्ञान शक्ति' के रूप में स्थापित करेगा। 

उन्होनें कहा,‘‘इस नीति में वर्णित 5 आई के तत्व इस नीति को ज्ञान आधारित-अर्थव्यवस्था के लिए सर्वथा उपयुक्त बनाते हैं और यह नीति न केवल 2030 के ‘एजेंडा फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट’ से जुड़ी हुई है, बल्कि इसका उद्देश्य ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ के हमारे मूल सिद्धांतों के अनुसार, समतामूलक, समावेशी, बहु-सामाजिक एवं बहु-सांस्कृतिक समाज के निर्माण में लगे हुए, उत्पादक तथा बहुमूल्य योगदान करने वाले नागरिकों का निर्माण करना है।’’ 

उन्होनें अपने संबोधन के अंत में कहा कि निश्चित रूप से भारत शिक्षा जगत में आमूलचूल परिवर्तन के साथ वैश्विक पटल पर एक नई दस्तक दे रहा है। आज इस कार्यक्रम के माध्यम से इस महापरिवर्तन की एक रूपरेखा मैंने आप लोगों के साथ साझा की है। मुझे पूरा विश्वास है कि आप सब भी अपने-अपने क्षेत्रों तथा अपनी विशेषज्ञता के साथ इस नीति के प्रति जागरूकता और क्रियान्वयन संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने में अपना सर्वस्व योगदान देंगे।

इस कार्यक्रम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कुवैत में भारतीय राजदूत सीबी जॉर्ज, भारतीय प्रवासी परिषद के संरक्षक वेणुगोपाल, अध्यक्ष एवं अधिवक्ता सुमोद, आयोजन सचिव विजय राघवन, उपाध्यक्ष बिनॉय सेबेस्तियन तथा संपत कुमार, उपाध्यक्ष रेम धनेश एवं महासचिव विद्या सुमोद भी जुड़े।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »