12 Jul 2020, 04:24:41 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport » Cricket

गेंद की चमक बनाए रखने के लिए दूसरे विकल्प की जरुरत : बुमराह

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 1 2020 5:53PM | Updated Date: Jun 1 2020 5:53PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण बनाये गए नए दिशा-निर्देशों को लेकर भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने कहा है कि गेंद को चमकाने और उसकी चमक बनाए रखने के लिए गेंदबाजों को दूसरे विकल्प की जरुरत है। आईसीसी की तकनीकी समिति ने गेंद को चमकाने के लिए लार पर रोक लगाने की सिफारिश की है जिसके बाद दुनिया भर के तेज गेंदबाजों ने इस सिफारिश पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और अधिकतर तेज गेंदबाजों का मानना है कि इससे तेज गेंदबाजों के हाथों से स्विंग और रिवर्स स्विंग जैसा हथियार निकल जाएगा।
 
बुमराह ने आईसीसी के इनसाइड-आउट साक्षात्कार में कहा कि एक ही चीज जो मुझे प्रभावित करती है वो है लार। मुझे नहीं पता जब हम वापस मैदान पर जाएंगे तो कौन-कौन से दिशा-निर्देशों का हमें पालन करना होगा, लेकिन मेरा मानना है कि लार के अलावा कोई दूसरा विकल्प होना चाहिए। अगर गेंद सही से नहीं चमकेगी तो गेंदबाजों के लिए बहुत परेशानी होगी। उन्होंने कहा कि मैदान और छोटे होता जा रहे हैं और पिच सपाट होती जा रही है इसलिए हमें कुछ तो चाहिए। गेंदबाजों के लिए कोई विकल्प तो होना चाहिए, जिससे वे गेंद की चमक को बनाए रख सकें, जिससे गेंद रिवर्स या पारंपरिक स्विंग तो हो सके।
 
बुमराह ने कहा कि टेस्ट मुकाबलों में परिस्थिति गेंदबाजों के अनुकूल होती है इसलिए यह मेरा पसंदीदा प्रारूप हैं। लेकिन वनडे क्रिकेट में दो नई गेंद मिलती है इसलिए अंतिम ओवरों में गेंद रिवर्स स्विंग होती ही नहीं है। बुमराह ने विकेट लेने के बाद खिलाड़ियों के एक-दूसरे को ताली न देने पर अपनी सलाह देते हुए कहा कि विकेट लेने के बाद मैं बहुत अधिक उत्साहित नहीं होता हूं और मैं ताली देने (हाई फाइव) वाला इंसान भी नहीं हूं इसलिए मुझे एक-दूसरे को ताली देने पर प्रतिबन्ध लगाए जाने से खास परेशानी नहीं हैं। छोटे मैदानों को लेकर उन्होंने कहा कि भारतीय टीम इस वर्ष के शुरू में न्यूजीलैंड में खेली थी,वहां मैदान की बाउंड्री 50 मीटर के आसपास होती है। इसलिए अगर कोई बल्लेबाज छक्का मारने की सोच भी नहीं रहा है तो वो मैदान इतना छोटा है कि गेंद छक्के के लिए जा सकती है।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »