05 Dec 2021, 07:03:56 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business » Gadgets

Facebook पर नफरत और झूठ फैलाने का गंभीर आरोप, केंद्र सरकार ने FB से मांगी ये डिटेल्स

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 28 2021 3:31PM | Updated Date: Oct 28 2021 3:37PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने फेसबुक को पत्र लिखकर सोशल मीडिया कंपनी द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले एल्गोरिदम और प्रक्रियाओं की डिटेल्स मांगी है। यह कदम इसलिए भी महत्व रखता है क्योंकि हाल ही में सामने आए फेसबुक के आंतरिक दस्तावेज बताते हैं कि कंपनी अपने सबसे बड़े बाजार भारत में भ्रामक सूचना, नफरत वाले भाषण और हिंसा पर जश्न से जुड़ी सामग्री की समस्या से दो-चार हो रही है।
 
अमेरिकी मीडिया में आई खबर के मुताबिक सोशल मीडिया के शोधकर्ताओं ने रेखांकित किया है कि ऐसे समूह और पेज हैं जो ‘भ्रामक, भड़काऊ और मुस्लिम विरोधी सामग्री से भरे हुए हैं।’ घटनाक्रम से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने फेसबुक को पत्र लिखकर कंपनी द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले एल्गोरिदम और प्रक्रियाओं के बारे में जानकारी मांगी है।
 
उन्होंने कहा कि सरकार ने फेसबुक से यूजर्स की सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों का ब्योरा भी देने के लिए भी कहा है। संपर्क करने पर फेसबुक ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। इस साल की शुरुआत में भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में 53 करोड़ लोग व्हाट्सऐप का, 41 करोड़ फेसबुक का और 21 करोड़ लोग इंस्टाग्राम का इस्तेमाल कर रहे हैं। मालूम हो कि इस साल की शुरुआत में भारत ने नए आईटी नियम लागू किए थे, जिसका उद्देश्य ट्विटर और फेसबुक सहित बड़ी तकनीकी कंपनियों के लिए अधिक जवाबदेही लाना है।
 
ब्लूमबर्ग और अन्य अमेरिकी मीडिया संगठनों द्वारा एक्सेस किए गए आंतरिक दस्तावेजों के मुताबिक, फेसबुक ब्लूमबर्ग ने बताया कि सोशल मीडिया कंपनी ने फरवरी 2019 में एल्गोरिदम के प्रभाव का पता लगाने के लिए एक टेस्ट अकाउंट बनाया था, जो भारत में प्लेटफॉर्म पर यूजर्स द्वारा देखी जाने वाले कंटेंट को तय करता है। द न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, फरवरी 2019 में प्रकाशित एक आंतरिक रिपोर्ट में अकाउंट बनाने वाले फेसबुक शोधकर्ता ने लिखा था, ‘टेस्ट यूजर के न्यूज फीड के बाद, मैंने पिछले तीन हफ्तों में मृत लोगों की ज्यादा फोटोज़ देखी हैं, जो मैंने अपनी पूरी जिंदगी में भी नहीं देखीं।
 
फेसबुक द्वारा टेस्ट अकाउंट बनाने के कुछ दिनों बाद, पुलवामा आतंकी हमला हुआ। पाकिस्तान स्थित आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद समूह द्वारा किए गए हमले में 14 फरवरी 2019 को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 40 जवान मारे गए थे। द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, पाकिस्तान विरोधी सामग्री वाले पोस्ट उन समूहों में दिखाई देने लगे थे, जिनमें टेस्ट करने वाला यूजर शामिल था।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »