29 Nov 2020, 01:16:46 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business » Other Business

बाजार उम्मीदों से बेहतर रहे रिलायंस इंडस्ट्रीज के नतीजे

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 31 2020 2:45PM | Updated Date: Oct 31 2020 2:46PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नयी दिल्ली। मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के पेट्रो कैमिकल कारोबार पर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले वैश्विक महामारी कोविड-19 का प्रभाव जरुर रहा किंतु समूह की अन्य कंपनियों ने विश्लेषकों और बाजार के पंडितों के अनुमानों को झुठलाते हुए शानदार कारोबार और शुद्ध लाभ में जोरदार वृद्धि हासिल की।
 
आरआईएल ने शुक्रवार देर रात 2020-21 की दूसरी तिमाही के घोषित नतीजों में 9,567 करोड़ रू का शुद्ध लाभ अर्जित। हलांकि यह पिछले वर्ष की इसी तिमाही से 15 फीसदी कम है किंतु बाजार विश्लेषकों से कहीं बेहतर है। कंपनियों के कारोबार पर विश्लेषण करने वाली प्रमुख ब्लूमबर्ग के विश्लेषकों की राय में रिलायंस का मुनाफा करीब 9,017 करोड़ रुपये रहने  का अनुमान लगाया गया था।
 
इसके उलट कंपनी का कंसोलिडेटिड शुद्ध लाभ एक बार फिर 10,000 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गया जो कंसोलिडेटिड शुद्ध लाभ। कंसोलिडेटिड शुद्ध लाभ पिछली तिमाही के मुकाबले 28 प्रतिशत बढ़कर 10,602 करोड़ रुपये रहा  मुकेश अंबानी के नये कारोबार वाली रिलायंस रिटेल और जियो प्लेटफॉर्म्स  शानदार प्रर्दशन के दम पर रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंसोलिडेटिड आय 27.2 प्रतिशत की मजबूत क्रमिक वृद्धि के साथ तिमाही में 1,28,285 करोड़ रुपये रही। कोविड-19 के कारण उपजी परिस्थितियों में दुनिया भर में ईंधन की मांग और कच्चे तेल की कीमतों में जबर्दस्त गिरावट दर्ज की गई थी। इसका असर रिलायंस के ऑयल एंड गैस कारोबार पर भी पड़ा।
 
कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित जून तिमाही के मुकाबले सितंबर तिमाही के कंसोलिडेटिड शुद्ध लाभ में 28 फीसदी का उछाल देखने को मिला। रिलायंस जियो ने रिलायंस समूह की सभी कंपनियों में सबसे जोरदार नतीजे दिये। पिछले साल समान तिमाही के 990 करोड़ रू के शुद्ध लाभ को करीब तिगुना करते हुए सितंबर तिमाही में कंपनी ने 2,844 करोड़ का शुद्ध लाभ कमाया। राजस्व में भी चार हजार करोड़ से अधिक का इजाफा देखने को मिला। कंपनी के एआरपीयू यानी प्रति ग्राहक आय में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है।
 
सितंबर तिमाही में यह 145 रुपये रहा, जबकि जून तिमाही में यह 140 और एक वर्ष पहले 2019-20 की सितंबर तिमाही में यह करीब 120 रुपये ही था। चीन के अलावा 40 करोड़ से अधिक ग्राहक संख्या रखने वाली रिलायंस जियो विश्व की पहली कंपनी बनी है। कंपनी के नेटवर्क पर डेटा की खपत में भी 1.5 प्रतिशत का इजाफा देखने को मिला है। सितंबर तिमाही में यह 1442 करोड़ जीबी को छू गया। रिलायंस रिटेल ने भी सितंबर तिमाही में बेहतरीन प्रदर्शन किया, कंपनी ने 232 नए स्टोर खोले। कंपनी के स्टोर्स की कुल संख्या अब बढ़कर 11,931 हो गई है। रिलायंस रिटेल ने 5.6 अरब डॉलर यानी करीब 41 हजार करोड़ रुपये का कारोबार किया। यह पिछले साल की इसी तिमाही से मामूली कम है। हालांकि जून तिमाही के मुकाबले इसमें 30 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला है। पिछली तिमाही के मुकाबले रिलायंस रिटेल के शुद्ध लाभ में भी 125 प्रतिशत से अधिक का इजाफा देखने को मिला। नतीजों पर टिप्पणी करते हुए आरआईएल अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने कहा - हमने पेट्रोकेमिकल्स और रिटेल वर्ग में अच्छा सुधार किया है, जियो में हमारा कारोबार लगातार मजÞबूत हुआ है और कुल मिलाकर हमने पिछली तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में बेहतर नतीजे दिए हैं। हमारे ओ-टू-सी कारोबार में माँग के स्तर में तेज़ सुधार हुआ है।
 
ज़्यादातर उत्पादों के मामले में घरेलू माँग एक बार फिर बढ़कर तकरीबन कोविड के पहले वाले स्तरों पर पहुँच गई है। देश भर में लॉकडाउन के हटने से रिटेल व्यापार में स्थितियाँ तेजी से सामान्य हुई और महत्वपूर्ण उपभोक्ता वस्तुओं की माँग में वृद्धि हुई है। पिछले छह महीनों में हमने जियो और रिटेल कारोबार में ख़ासी पूंजी जुटाई है और साथ ही कुछ प्रभावशाली रणनीतिक और वित्तीय निवेशकों को रिलायंस परिवार में शामिल किया है। भारतवर्ष की उन्नति को ध्यान में रखते हुए हमने अपने सभी व्यवसायों में तेज वृद्धि का लक्ष्य रखा है। अंबानी ने कहा कोरोना वायरस संकट के बावजूद चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में रिलायंस ने तीस हजार रोजगार के नये अवसर पैदा किये। गौरतलब है कि कोविड-19 के कारण रिलायंस ने अपने कर्मचारियों के वेतन में जो कटौती की थी उसे वापस ले लिया है।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »