15 Oct 2019, 14:49:31 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

उप्र में प्रशिक्षण संस्थानों में विभिन्न श्रेणी के1227 अतिरिक्त पदों का सृजन - योगी आदित्यनाथ

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 17 2019 1:21AM | Updated Date: Sep 17 2019 1:21AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के नौ पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों में विभिन्न श्रेणी के कुल 1227 अतिरिक्त पदों का सृजन किया गया है। राज्य के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के क्रम प्रदेश के 9 प्रषिक्षण संस्थानों में विभिन्न श्रेणी के 1227 अतिरिक्त पदों का सजृन किया गया है। उन्होंने बताया कि इसके पहले कुल 924 पद सृजित थे जो अब बढ़कर 2151 हो गये है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था को और अधिक चुस्त दुरूस्त बनाये जाने एवं अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण के लिये पुलिस कर्मियों के प्रशिक्षण कार्य को बेहतर तरीके से शीघ्र पूरा करने के लिए राज्य के पुलिस प्रषिक्षण संस्थानों में विभिन्न श्रेणी के पदों की संख्या बढ़ाकर दो गुने से अधिक कर दी गयी है।
 
अवस्थी ने बताया कि डा0 भीमराव अम्बेडकर अकादमी मुरादाबाद में विभिन्न श्रेणी के अतिरिक्त 48, पुलिस प्रशिक्षण अकादमी मुरादाबाद में 193, पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय मुरादाबाद में 183, पुलिस प्रषिक्षण महाविद्यालय सीतापुर में 148, सशस्त्र पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय सीतापुर में 165, मेरठ में 220, सशस्त्र पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय, चुनार, मिर्जापुर में 55, पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय गोरखपुर में 42 व पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र उन्नाव में 173 अतिरिक्त पदों का सृजन किया गया है। गौरतलब है कि अकादमी की ट्रेंिनग का उद्देश्य है कि पुलिस में भर्ती होने वाला हर कैडेट सभी जरूरी कला, ज्ञान और न्याय के प्रति समर्पण का भाव अपने अंदर लाये।
 
यह हर एक प्रहरी को समान आधार पर तैयार करता है। ट्रेंिनग के दौरान हर एक कैडेट को किस तरह पेश होना है और किस परिस्थिति में कैसा फैसला लेना है इसके बारे में सिखाया जाता है। इसके साथ ही सभी को उस ट्रेंिनग से गुजरना पड़ता है जो उनको आने वाले समय के लिए परिपक्व बनाती है। पुलिस अकादमी से निकले कैडेट प्रदेश की रक्षा करने को तत्पर होंगे। सरकार के इस निर्णय से पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों में नव चयनित कर्मियों को शीघ्र प्रशिक्षण उपलब्ध कराना संभव हो सकेगा साथ ही साथ वर्तमान पुलिस कर्मियों को भी नई तकनीकों आदि का भी व्यावहारिक प्रषिक्षण उपलब्ध कराकर उनकी कार्य क्षमता में वृद्वि की जा सकेगी। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »