21 Jul 2019, 03:25:45 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Uttar Pradesh

उप्र में पर्यटन के समग्र विकास की कार्य योजना बनाई जाए : CM योगी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 20 2019 11:50AM | Updated Date: Jun 20 2019 11:51AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए इसके समग्र विकास के सम्बन्ध में व्यापक कार्ययोजना बनाए जाने के अधिकारियों को निर्देश दिए। योगी ने बुधवार शाम यहां लोक भवन में पर्यटन विभाग के कार्यों की समीक्षा बैठक में ये निर्देश दिये। इस मौके पर उन्होंने कहा कि पर्यटन के समग्र विकास के तहत ऐसी योजना बनायी जाए, जो प्रदेश के गौरव और उसकी पहचान को प्रदर्शित करे। पर्यटन स्थलों का विकास और पर्यटकों को जोड़ते हुए इस योजना की ब्राण्डिंग सुनिश्चित हो।
 
पर्यटन विकास के लिए प्रदेश के संसाधनों के अलावा पीपीपी मोड एवं कॉरपोरेट सोशल रेस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) की सम्भावनाओं को तलाशा जाए। उन्होंने कहा कि विन्ध्याचल के पर्यटन विकास से सम्बन्धित योजना में पर्यटन सुविधाओं, पार्किंग की व्यवस्था, शौचालय तथा पेयजल सुविधा और लोगों के व्यवस्थित पुनर्वास सम्मिलित किया जाए। इसके सम्बन्ध में उन्होंने एक मास्टर प्लान तैयार किए जाने के अधिकारियों को निर्देश दिए।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में ‘दीपोत्सव’ पर दीपों का प्रज्ज्वलन सरयू जी के घाटों के साथ-साथ अयोध्या के आश्रमों एवं मन्दिरों में भी किया जाए। अयोध्या की 84 कोसी परिक्रमा के मार्ग पर जनसुविधाएं विकसित हो, प्रत्येक 05 किलोमीटर पर विश्रामालय का निर्माण हो, पैदल मार्गों व वाहन मार्गों की पृथक व्यवस्था हो, परिवहन सुविधाएं विकसित की जाएं। उन्होंने अयोध्या में सरयू रिवरफ्रण्ट विकसित किया जाए।
 
उन्होंने कहा कि लाइट एण्ड साउण्ड शो की स्क्रिप्ट पर विशेष ध्यान देते हुए उस स्थल विशेष के गौरवशाली अतीत और परम्पराओं का समावेश किया जाए। इसमें वहां के इतिहास, आध्यात्मिकता और साहित्यिक परम्परा, ऐतिहासिक स्थलों और स्वतंत्रता संग्राम से जुड़ी विभूतियों का उल्लेख हो। उन्होंने कहा कि स्क्रिप्ट ऐसी हो, जो अतीत से वर्तमान पीढ़ी को जोड़ने की कड़ी बने। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के स्मारकों का निर्माण इस प्रकार किया जाए कि वह उनके व्यक्तित्व, कृतित्व व शौर्य का प्रतीक बने।
 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »