16 Jun 2019, 12:47:20 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

मध्यप्रदेश : छिंदवाड़ा को ‘कमल’ नहीं कमलनाथ पसंद

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Mar 15 2019 4:34PM | Updated Date: Mar 15 2019 4:34PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

छिंदवाड़ा। आजादी के बाद से ही कांग्रेस का गढ़ रही मध्यप्रदेश की छिंदवाड़ा संसदीय सीट पर पिछले चार दशक से कमलनाथ का कब्जा है और राज्य के मुख्यमंत्री बन जाने के बाद वह इस बार भले ही लोकसभा चुनाव नहीं लड़े लेकिन भारतीय जनता पार्टी के लिए यहां जीत हासिल करना टेढ़ी खीर साबित होगी। कमलनाथ 1980 में से यहां से पहली बार जीत हासिल कर लोकसभा में पहुंचे थे। वह इस सीट से नौ बार चुनाव जीत चुके हैं। पिछले चुनाव में मोदी लहर के बावजूद वह एक लाख से अधिक मतों से जीते थे और लोकसभा में सबसे वरिष्ठ सदस्य होने के नाते अस्थायी अध्यक्ष बने थे।
 
इस सीट पर आम चुनाव में कांग्रेस को कभी हार का सामना नहीं करना पड़ा। सिर्फ एक बार उप चुनाव में भाजपा को जीत मिली थी। महाराष्ट्र से लगी छिंदवाड़ा संसदीय सीट 1977 के लोकसभा चुनावों से चर्चा में आई थी, जब सारे उत्तर भारत में कांग्रेस का सफाया हो जाने के बाद भी यहां से कांग्रेस को विजयश्री हासिल हुई थी।  इस सीट पर कमलनाथ ने 1980 से 1991 तक लगातार चार चुनावों में जीत हासिल की। हवाला डायरी कांड में नाम आ जाने के कारण 1996 में कांग्रेस ने उन्हें चुनाव नहीं लड़वाया, तब उनकी पत्नी अलका नाथ ने यहां से चुनाव जीता था।
 
एक वर्ष बाद उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। इस पर 1997 में हुये उपचुनाव में भाजपा की ओर से चुनाव लड़ने आये  राज्य के पूर्व मुख्य मंत्री सुदंरलाल पटवा ने कमलनाथ को पराजित कर दिया था लेकिन एक साल बाद हुए आम चुनाव में कमलनाथ ने सुदंरलाल पटवा को पराजित कर अपनी हार का बदला ले लिया। मध्य प्रदेश में उमा भारती के नेतृत्व में 2003 में भाजपा की सरकार बनने पर 2004 के चुनाव में कमलनाथ के सामने प्र‘‘ाद पटेल को चुनाव में उतारा गया लेकिन उन्हें भी हार का सामना करना पड़ा।
 
इसके बाद 2009 के संसदीय चुनाव में कमलनाथ को चार लाख नौ हजार 736 वोट  मिले, तो वहीं भाजपा के उम्मीदवार मारोतीराव खवसे को दो लाख 88 हजार 616  वोट मिले। पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी लहर का भी यहां असर नहीं  हुआ। भाजपा ने तीसरी बार चौधरी चन्द्रभान सिंह को कमलनाथ के खिलाफ चुनाव  में उतारा। इस चुनाव में चौधरी चन्द्रभान सिंह को चार लाख 43 हजार 218 वोट  मिले। कमलनाथ को पांच लाख 59 हजार 755 वोट मिले। इस तरह कमलनाथ नौवीं बार  एक लाख 16 हजार 537 मतों से चुनाव जीत गये। 
 
छिंदवाड़ा संसदीय सीट में कांग्रेस और भाजपा दो ही प्रमुख राजनैतिक दल है,लेकिन क्षेत्रीय राजनीतिक दलों में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी  2003 से जिले में सक्रिय हुई। इस पार्टी के प्रत्याशी मनमोहन शाह बट्टी ने 2004 के चुनाव में ने 11.31 प्रतिशत मत लेकर अपना प्रभाव दिखाया था। इस संसदीय सीट के अंतर्गत आने वाली सभी सात विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है। प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के चलते कमलनाथ इस बार छिंदवाड़ा से विधानसभा का उपचुनाव लड़ेंगे। यह उपचुनाव आम चुनाव के साथ ही होगा। संसदीय सीट पर  कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ सक्रिय हो गये हैं। उम्मीद है कि कांग्रेस नकुलनाथ को ही छिंदवाड़ा से टिकट देगी।
 
छिंदवाड़ा के राजनीतिक इतिहास पर नजर डालें तो यहां कांग्रेस का पलड़ा हमेशा ही भारी रहा है। पहला चुनाव 1951 में हुआ था, जिसमें कांग्रेस के रायचंद भाई शाह सांसद चुने गये थे। इसके बाद 1957 और 1962 में हुए दूसरे और तीसरे संसदीय चुनाव में भी कांग्रेस को जीत मिली। लगातार दो बार बीकूलाल लखिमचंद्र चांडक ने संसद में क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। इसके बाद 1967, 1971 और 1977 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के गार्गीशंकर मिश्रा यहां से तीन बार सांसद चुने गये। 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »