19 Sep 2019, 08:18:41 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

हरियाणा को विश्व में विकसित मॉडल बनाने का है लक्ष्य: खट्टर

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Aug 17 2019 8:23PM | Updated Date: Aug 17 2019 8:23PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि उनका लक्ष्य एक नये हरियाणा का निर्माण कर इसे विकसित देशों की तर्ज पर एक मॉडल विकसित राज्य बनाने कहा है ताकि देश-विदेश में हरियाणा की एक अलग पहचान बने। खट्टर ने लाल आज यहां अपने सरकारी आवास पर 7-स्टार  इंद्रधनुष योजना के तहत प्रदेश की 5-6 स्टार रेटिंग से सम्मानित 78  पंचायतों के सरपंचों को सम्बोधित करते हुये यह बात कही। उन्होंने कहा कि इसके लिए सरकारी प्रयासों के साथ पंचायती राज संस्थानों के जनप्रतिनिधियों का सहयोग भी महत्वूर्ण है क्योंकि वे समाज निर्माण के उत्तरदायित्व को समझते हुए सरकार की योजनाओं का लाभ और जानकारी निर्धनतम व्यक्ति तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। उन्होंने स्टार रेटिंग प्राप्त करने वाली पंचायतों को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे अन्य पंचायतों के लिये प्रेरणा स्रोत बनने के साथ ही उनमें प्रतिस्पर्धा भी करेंगी।
 
उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में प्रदेश की सत्ता संभालने पर उनके मन में पिछली सरकारों की तुलना में राज्य में कुछ अलग करने का भाव पैदा हुआ था और इसी के चलते उन्होंने व्यवस्था परिवर्तन की दिशा में ऑनलाइन माध्यम से नागरिकों को सरकारी योजनाओं और सेवाओं की जानकारी देने की शुरूआत की थी जिसका दायरा मौजूदा समय में बढ़कर 37 विभाग तथा 450 सेवाओं तक पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि पढ़ी-लिखी पंचायत बनाना उनके इसी भाव का परिणाम है। उन्होंने कहा कि अगर नेतृत्व पढ़ा-लिखा है, किसी भी प्रकार का डिफॉल्टर नहीं है, घर में शौचालय है तथा अपराधिक प्रवृति का नहीं है तो वह निश्चित रूप से समाज को एक अच्छा नेतृत्व दे सकता है। यही कारण है कि आज पढ़ी लिखी पंचायतें अन्य राज्यों के लिए भी एक उदाहरण हैं। 
 
उन्होंने कहा कि अंत्योदय केंद्र, सरल केंद्र, अटल सेवा केंद्र तथा ग्राम सचिवालयों के सांझा सेवा केंद्रों पर सरकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों की जानकारी उपलब्ध है। पंचायतों के प्रतिनिधि सतही स्तर तक इनकी जानकारी निर्धतम व्यक्ति तक पहुंचा सकते हैं। उन्होंने इस बात पर खुशी व्यक्त की कि 26 जनवरी, 2018 से शुरू की गई 7-स्टार इंद्रधनुष योजना में प्रदेश की कुल पंचायतों में से लगभग 4000 पंचायतें कोई न कोई स्टार रेटिंग प्राप्त करने में सफल रही हैं। यह एक ग्रामीण विकास की नव अवधारणा को प्रतिबिम्बित करता है। किसी भी पंचायत के 7-स्टार न प्राप्त करने का कारण पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि रेटिंग  के मानदंड सख्त हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि 1000 लड़कों के पीछे 1000 लड़कियों की गणना के वजाय पांच साल में 1000 लड़कियों का आंकड़ा पार या पांच साल का औसतन लिंगानुपात 950 लड़कियां मानकर किया जाए तो बहुत सी पंचायतें 7-स्टार रेटिंग  प्राप्त कर लेंगी। 
 
इस सुझाव का स्वागत करते हुये सरपंचों ने  मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि अगली बार वे अवश्य 7-स्टार रेटिंग  प्राप्त करेंगे। मुख्यमंत्री इस अवसर पर सरकार के शुरू किये गये अनेक कार्यक्रमों का उल्लेख किया जिनमें परिवार पहचान पत्र, मेरी फसल-मेरा ब्यौरा, केंद्र की तर्ज पर मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना, आयुष्मान भारत योजना प्रमुख हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना में जिन परिवारों की वार्षिक आय 1.80 लाख रुपये है या पांच एकड़ से कम जमीन है  उन्हें केंद्र सरकार की योजना के तहत 6000 रुपये का वार्षिक का लाभ दिया जाएगा। उन्होंने सरपंचों से मेरी फसल मेरा ब्यौरा समेत सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाओं के बारे में लोगों को अवगत कराने का आहवान किया। इस अवसर पर राज्य के विकास एवं पंचायत मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ तथा राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »