23 Jun 2018, 04:32:16 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport » Football

मैसी ने स्पेनिश लीग में 34 गोल कर 5वीं बार जीता 'गोल्डन शू' अवॉर्ड

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 22 2018 11:35AM | Updated Date: May 22 2018 11:36AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मैड्रिड। बार्सिलोना के स्ट्राइकर लियोनल मैसी ने 2017-18 सीजन का 'गोल्डन शू' अवॉर्ड जीत लिया है। ये अवार्ड मैसी को पांचवीं बार दिया गया। उन्होंने स्पेनिश लीग 'ला लीगा' के इस सीजन में 34 गोल दागे। जिससे उन्हें 68 अंक हासिल हुए। मैसी ने पिछले साल 2016-17 सीजन में 37 गोल करके ये अवॉर्ड जीता था। इसके अलावा उन्होंने 2009-10, 2011-12 और 2012-13 में इस अवॉर्ड को अपने नाम किया था। वे एक मात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने पांच बार 'गोल्डन शू' जीता है।

क्रिस्टियानो रोनाल्डो से आगे निकले मैसी
पांचवीं बार ये अवॉर्ड जीतने के साथ ही मेसी ने क्रिस्टयानो रोनाल्डो के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया। इससे पहले रोनाल्डो ने ये अवॉर्ड 4 बार अपने नाम किया है। रोनाल्डो ने आखिरी बार 2014-15 सीजन में 48 गोल के साथ ये अवॉर्ड जीता था। रोनाल्डो ने ये अवार्ड 2007-08, 2010-11, 2013-14 और 2014-15 में जीता है।
 
मैसी ने मोहम्मद और हैरी केन को पीछे छोड़ा
गोल्डन शू की दौड़ में मैसी के साथ-साथ लीवरपूल के मोहम्मद सलाह और टोटेनहम हॉटस्पर के हैरी काने भी शामिल थे। सलाह के 32 गोल में 68 अंक थे, वहीं हैरी के 30 गोल में 60 अंक थे।
 
मैसी से 8 गोल पीछे रोनाल्डो
रियाल मैड्रिड के स्ट्राइकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो इस अवार्ड को जीतने में नाकाम रहे। उन्होंने मैसी से 8 गोल कम दागे। इस सीजन में वे टॉप-5 में भी शामिल नहीं हो सके। रोनाल्डो ने 26 गोल के साथ 52 अंक हासिल किए।
 
सीजन में 50 गोल दागने वाले एकमात्र खिलाड़ी मेसी
मैसी ने 2011-12 सीजन में 50 गोल के साथ 100 प्वाइंट हासिल किए थे। वे एक सीजन में 50 गोल दागने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं। उनके बाद सबसे ज्यादा गोल क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने दागे हैं। रोनाल्डो ने 2014-15 सीजन में 48 गोल के साथ 96 प्वाइंट अपने नाम किए थे।
 
'गोल्डन शू' देने के नियम
8यह अवॉर्ड अंकों के आधार पर दिया जाता है। इसमें जर्मन, स्पेनिश, इंग्लिश, इतालवी और फ्रेंच लीग में किए गए खिलाड़ियों के गोल गिने जाते हैं और हर गोल के लिए दो अंक दिए जाते हैं। पहली बार इस नियम को 1996-97 में लागू किया था।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »