20 Nov 2019, 08:08:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
entertainment

ढ़ायी किलो का हांथ जब किसी पे पड़ता है तो वो उठता ही नही उठ जाता है

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 18 2019 11:28AM | Updated Date: Oct 18 2019 11:28AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मुंबई। बॉलीवुड के माचोमैन सन्नी देवोल का नाम ऐसे अभिनेता के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपने दमदार अभिनय से फिल्म इंडस्ट्री में अपनी विशिष्ट पहचान बनायी है। सन्नी का जन्म 19 अक्तूबर 1956 को हुआ और उनको अभिनय की कला विरासत में मिली। उनके पिता धमेन्द्र हिंदी फिल्मों के जाने माने अभिनेता थे। घर में फिल्मी माहौल रहने के कारण सन्नी अक्सर अपने पिता  के साथ शूटिंग देखने  जाया करते थे। इस वजह से उनका भी रूझान फिल्मों की ओर हो गया और वह भी अभिनेता बनने के ख्वाब देखने लगे। सन्नी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मुंबई से पूरी की। इसके बाद उन्होंने इंग्‍लैंड के मशहूर ओल्ड बेव थियेटर में अभिनय की शिक्षा पूरी की। सन्नी ने अपने अभिनय करियर की शुरूआत अपने पिता की निर्मित फिल्म ‘बेताब’ से की। वर्ष 1983 में राहुल रवैल के निर्देशन में युवा प्रेम कथा पर बनी यह फिल्म टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित  हुयी।

 

फिल्म बेताब की सफलता के बाद सन्नी देवोल को सोहनी महिवाल, मंजिल मंजिल, सन्नी, जबरदस्त जैसी फिल्मों में काम करने का अवसर मिला लेकिन इनमें से कोई फिल्म टिकट खिड़की पर कामयाब नही हो सकी। वर्ष 1985 में सन्नी को एक बार फिर से राहुल रवैल के निर्देशन में बनी फिल्म ‘अर्जुन’ में काम करने का अवसर मिला जो उनके सिने करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी। इस फिल्म में सन्नी ने एक ऐसे युवा की भूमिका निभाई जो राजनीति के दलदल में फंस जाता है। फिल्म की सफलता के साथ ही सन्नी एक बार फिर से फिल्म इंडस्ट्री में अपनी खोई हुयी पहचान बनाने में कामयाब हो गये। फिल्म अर्जुन की सफलता के बाद सन्नी देवोल की छवि एंग्री यंग मैन स्टार के रूप में बन गयी। इस फिल्म के बाद निर्माता निर्देशकों ने अधिकतर फिल्मों में सन्नी देवोल की इसी छवि को भुनाया। इन फिल्मों में सल्तनत, डकैत, यतीम, इंतकाम, पाप की दुनिया जैसी फिल्में शामिल  हैं। 

 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »