18 Nov 2019, 12:49:39 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business » Other Business

पहली बार देरी से पहुंची तेजस एक्सप्रेस - यात्रियों को मिलेगा मुआवजा

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 20 2019 1:41PM | Updated Date: Oct 20 2019 1:41PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्‍ली। भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस पहली बार लेट से स्टेशन पहुंची। अब लेट होने के चलते यात्रियों को मुआवजा दिया जाएगा। शनिवार को ये ट्रेन दोनों तरफ से लेट से चली। इस दौरान लखनऊ से दिल्ली आने वाली इस ट्रेन में 451 यात्री सवार थे और दिल्ली से लखनऊ जाने वाली ट्रेन में 500 यात्री थे।
 
आईआरसीटीसी के लखनऊ के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक (सीआरएम) अश्विनी श्रीवास्तव ने कहा, "हमने सभी यात्रियों के मोबाइल पर एक लिंक भेजी है, जिसपर क्लिक करने से वे अपने मुआवजे के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऐसा करने पर उन्हें मुआवजा मिल जाएगा।" चार अक्टूबर को लखनऊ से लॉन्च हुई तेजस भारतीय रेलवे की पहली निगमीकृत ट्रेन है, जिसका संचालन इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) करता है।
 
शुक्रवार रात लखनऊ जंक्शन स्टेशन पर वाराणसी जाने वाली कृषक एक्सप्रेस यार्ड से प्लेटफॉर्म पर लाई जा रही थी। तभी अचानक ट्रेन के दो कोच पटरी से उतर गए। इससे नई दिल्ली से लखनऊ पहुंची तेजस एक्सप्रेस प्लेटफॉर्म पर ही खड़ी रह गई और पिट लाइन पर मरम्मत के लिए समय से नहीं पहुंची।
 
इससे ट्रेन की मरम्मत और उसे तैयार करने में काफी समय लग गया। ट्रेन सुबह 6.10 बजे की जगह करीब तीन घंटे की देरी से नौ बजे नई दिल्ली के लिए रवाना हुई और नई दिल्ली करीब सवा तीन घंटे की देरी से दोपहर 3.40 बजे पहुंची। आईआरसीटीसी के नियमों के तहत तेजस के एक घंटे व उससे ज्यादा देरी पर यात्रियों को 100 रुपये और दो घंटे या उससे ज्यादा कितनी भी देरी के लिए 250 रुपये मुआवजा दिया जाएगा। ट्रेन के देरी से पहुंचने के बाद आईआरसीटीसी मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक अश्विनी श्रीवास्तव ने यात्रियों को मुआवजा देने का ऐलान किया। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »